September 18, 2021

Grameen News

True Voice Of Rural India

खस्ता सड़क से ग्रामीणों का बुरा हाल, आँखे बंद किए बैठा प्रशासन

खस्ताहाल सड़क

खस्ताहाल सड़क

Sharing is Caring!
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मुलताई के मीरापुर गाँव का लगभग डेढ़ किलोमीटर का रास्ता इन दिनों बारिश के कारण दलदल में बदल गया है। जिसकी वजह से कीचड़ और फिसलन से ग्रामीणों को आवागमन करने में भारी परेशानी हो रही है। ग्रामीण सड़क की मरम्मत की मांग कई बार पंचायत सरपंच और सचिव से कर चुके हैं। मगर अब तक ग्रामीणों की कोई सुनवाई नहीं हुई। आलम ये है कि मार्ग से दोपहिया वाहन गुजरना भी अब मुश्किल हो रहा है। सड़क की हालत इतनी बुरी है कि ग्रामीण अन्धेरा होने के बाद कहीं आ जा भी नहीं सकते हैं। यही नहीं कीचड़ और दलदल होने से कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी हैं लेकिन इसके बावजूद मरम्मत नहीं होने से समस्या जस की तस बनी हुई है। ग्रामीणों ने बताया कि मीरापुर और बलेगांव के बीच बड़ी संख्या में लोगों का आवागमन है लेकिन वर्तमान में स्थिति ये है कि मार्ग पर पैर रखना भी खतरे से खाली नजर नहीं आ रहा है जिससे ग्रामीणों को प्रतिदिन जान जोखिम में डालकर उक्त मार्ग से आवागमन करना पड़ रहा है।

बलेगांव में ग्राम पंचायत भवन, राशन दुकान सहित प्राथमिक स्कूल होने से मीरापुर के ग्रामीणों को बलेगांव जाना मजबूरी है। छोटे-छोटे कामों के लिए भी ग्रामीणों को बलेगांव जाकर काम कराना पड़ता है। इसलिए कीचड़ युक्त मार्ग से ही उन्हे आवागमन करना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया कि बलेगांव जाना जरूरी होता है इसलिए मजबूरी में कीचड़ भरे मार्ग से आवागमन करना पड़ता है। इधर चाहे पंचायत संबंधित काम हों या राशन लेना हो उसी सड़क से ही होकर बलेगांव जाना पड़ता है इसलिए मार्ग की मरम्मत होना आवश्यक है। ग्रामीणों के अनुसार सालों पहले ये सड़क बनी थी। जिसके बाद लगातार क्षतिग्रस्त होने के बावजूद कभी मरम्मत नहीं की गई।

बलेगांव से मीरापुर मार्ग को पंचायत द्वारा जीएसबी के तहत लगभग 12 साल पहले बनाया गया था। ये रास्ता लगभग डेढ़ किलोमीटर का है और पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुका है। ग्रामीणों ने बताया कि बलेगांव क्षेत्र गोभी के लिए पहचाना जाता है इसलिए यहां गोभी ले जाने ट्रक पहुंचते हैं जो उक्त मार्ग से होकर ही गुजरते हैं। कच्चे मार्ग से लगातार वाहनों का आवागमन होने से मार्ग कुछ वर्षो में ही जर्जर हो गया था। समस्या को लेकर जब बलेगांव के सचिव श्रीराम डोंगरे से चर्चा की गई तो उन्होने बताया कि वर्तमान में मार्ग मरम्मत के लिए पंचायत के पास कोई फंड नहीं आता है इसलिए पंचायत मार्ग की मरम्मत नहीं कर पा रही है। उन्होने बताया कि मार्ग की समस्या के दृष्टिगत प्रधान मंत्री सड़क योजना के तहत बलेगांव से मीरापुर मार्ग का प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है यदि प्रस्ताव स्वीकृत होता है तो ही उक्त मार्ग की दशा एवं दिशा सुधर सकती है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd