December 3, 2022

Grameen News

True Voice Of Rural India

रंग बिरंगी हाइब्रिड फूलगोभी से लखपति बने किसान महेंद्र निकम

हाइब्रिड फूलगोभी
Sharing is Caring!

आमतौर पर हम सब्जियों के कुछ ही रंगों से वाकिफ हैं। जैसे बैंगन का रंग बैंगनी होता है गोभी का रंग हरा या सफेद होता है। लेकिन क्या आपने कभी भी लाल या पीले रंग की फूलगोभी खाई है? खैर खाना तो दूर शायद देखी भी ना हो। लेकिन हम आज आपको एक ऐसे किसान के बारे में बताने से जा रहे हैं जो ना सिर्फ रंग बिरंगी हाइब्रिड फूलगोभी उगाता है बल्कि, इन्हें बेचकर अच्छा खासा मुनाफा भी कमा रहा है।

हम बात कर रहे हैं महाराष्ट्र के नासिक जिले के मालेगाव तालुका में दाभाड़ी गांव के रहने वाले किसान महेंद्र निकम की.. जो हाइब्रिड तरीके से गोभी की खेती करके आज मुनाफा कमा रहे हैं। महेंद्र की मानें तो, उन्होंने स्विट्जरलैंड की सिनजेंटा एग्रीकल्चरल साइंस एंड टेक्नोलॉजी नाम की एक कंपनी से 40 हजार रुपये के फूलगोभी के बीज खरीदकर एक एकड़ जमीन पर बोए थे. और उनके खेतों में आज रंग बिरंगी फूलगोभी दिखाई देती है।

आपको बता दें कि, महेंद्र सिर्फ 12वीं तक पढ़े हैं लेकिन करीब 10 सालों से खेती में नए नए तरीके अपना रहे हैं। यही वजह भी है कि, महेंद्र निकम को आस-पास के इलाकों में रहने वाले किसान एक सफल किसान के तौर पर देखते हैं.. औऱ उनसे खेती की नई तकनीके भी सीखने आते हैं। महेंद्र निकम का कहना है कि, फूलगोभी की रंग बिरंगी खेती के लिए सिनजेंटा कंपनी ने खुद उनके खेत को चुना था, जिसके लिए वो खुद को किस्मत वाला भी मानते हैं.

हाइब्रिड फूलगोभी

महेंद्र की मानें तो इन रंग बिरंगी फूलगोभी के लिए उन्हें बाजार में 80-90 रूपये प्रति किलो का भाव मिलता है। तो वहीं अभी उनके खेतों में करीब 20 हजार किलो गोभी की फसल कटने के लिए तैयार है. जबकि, हाइब्रिड फूलगोभी उगाने के लिए उन्हें कुल 2 लाख रूपये तक का खर्च आया था.. यानी कि, अगर देखा जाए तो किसान महेंद्र निकम को हाइब्रिड फूलगोभी की खेती से करीब 14 लाख रूपये तक का मुनाफा हो सकता है। जानकारी के लिए बता दें कि, फिलहाल इस तरह की हाइब्रिड गोभी को महाराष्ट्र के कुछ चुनिंदा शहरों के ग्राहकों को बेचा जा रहा है।

आज तक की एक रिपोर्ट की मानें तो सिनजेंटा के महाराष्ट्र में प्रोटेक्टेड क्रॉप्स स्पेशलिस्ट शिरीष शिंदे का कहना है कि, उनकी कंपनी ने पिछले दो सालों में कई सब्जियों का क्रॉस कल्टीवेशन करके इस प्रणाली को विकसित किया है। हरियाणा राज्य के करनाल जिले में भी इसका अनुसंधान किया गया है। जिसके बाद पहली बार महाराष्ट्र में किसान महेंद्र निकम के खेतों में प्रायोगिर तौर पर इस फूलगोभी की खेती की गई है।

उन्होंने ये भी बताया कि, इस हाइब्रिड फूलगोभी में विटामिन A की मात्रा ज्यादा है। जो स्वास्थ्य के साथ-साथ लोगों की आंखों, नाक, व त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है। इतना ही नहीं, उन्होंने बताया कि, अभी महाराष्ट्र में हो रही हाइब्रिड गोभी के बीजों को इस साल सितंबर तक देश के बाकी राज्यों के किसानों के लिए भी उपलब्ध कराया जाएगा।

जाहिर है हाइब्रिड फूलगोभी उगाने के बाद महेंद्र निकम इलाके के बाकी किसानों के लिए मिसाल बन गए हैं, तो वहीं उनके खेतों में उगी इस खास गोभी को देखने के लिए महाराष्ट्र के कृषि मंत्री दादा भुसे ने भी उनके खेतों का भ्रमण किया था।

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.