Grameen News

True Voice Of Rural India

बॉलीवुड सितारों से लेकर क्रिकेटर तक ले रहे खेती-बाड़ी में दिलचस्पी

फिल्मी सितारों

फिल्मी सितारों से लेकर क्रिकेटर तक ले रहे खेती-बाड़ी में दिलचस्पी

Sharing is caring!

खेती को भले घाटे का सौदा कह कर पुकारा जाता हो, लेकिन इसकी खुमारी ऐसी है कि सितारे भी इस व्यवसाय़ के दिवाने हैं। बीते 4-5 महीने के तालाबंदी के दौर में सोशल मीडिया पर कई बड़े सितारों की कुछ अलग तस्वीरें देखने को मिलीं, जो विदेशी वादियों में नहीं बल्कि देश की मिट्टी, भारत के खेतों में फिल्मी सितारों के बिताए गए वक्त की थी। लॉकडाउन के दौरान फिल्मी सितारों ने खाली वक्त में खेतों कि मिट्टी से दोस्ती की। किसी ने धान रोपा, किसी ने पौधे लगाए तो किसी ने चलाया ट्रैक्टर। हालांकि कुछ बड़े सितारे तो लॉकडाउन के चलते खेत तक पहुंचे लेकिन कुछ ऐसे सितारे भी हैं जो अपने बिजी टाइम में से वक्त निकालकर फार्मिंग को तवज्जो देते हैं तो कुछ ऐसे हैं जो फिल्मी चकांचौध से दूर सुकून भरी खुशहाल खेतों वाली जिन्दगी का आनंद ले रहे हैं।
अपने जमाने की मशहूर अदाकारा राखी भी इन दिनों फिल्मी नगरी से दूर अपने फार्म हाउस में खेती कर रही हैं। सत्तर और अस्सी के दशक में पर्दे पर सुपर हिट ऐक्ट्रेस के रूप में पहचान बनाने वाली राखी ने ना सिर्फ फिल्मी दुनिया से दूरी बना ली है बल्कि अब वो अपना ज्यादातर वक्त फार्मिंग में बिताती हैं, मुंबई से दूर पनवेल में 73 साल की राखी अपने फार्म पर कई तरह के फल-सब्जियां उगाती हैं। शहर की शोरगुल और भागमभाग भरी जिन्दगी से दूर राखी अपनी बुजुर्गीयत के दिनों में दुनिया के सबसे पुराने और सबसे उत्तम व्यवसाय को कर रही है।
फिल्मी सितारों
नेचर लवर्स में फिल्म स्टार्स में धर्मेन्द्र का नाम भी शामिल है, धर्मेन्द्र भी अपने फार्म पर कई तरह के फल और सब्जियों की खेती करते हैं। प्रकाश राज भी फार्मिंग में काफी दिलचस्पी रखते हैं जो साइंटिफिक फार्मिंग तकनीक पर एक्सपेरीमेंट्स के लिए काफी मशहूर हैं, प्रकाशराज ने तेलंगाना में एक गांव भी गोद लिया है जहां वो मॉर्डन फार्मिंग की प्रेक्टिस करते हैं।
फिल्मी दुनिया में अपने उम्दा अभिनय के लिए पहचाने जाने वाले नवाजुद्दीन सिद्दिकी भी खेती-किसानी के कामों में माहिर हैं। किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले नवाजुद्दीन जितनी शिद्दत से किरदार में जान फूंकते हैं उतनी ही मेहनत से खेतों में भी काम करते हैं। लॉकडाउन के दिनों में जैकी श्राफ की भी ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया पर देखी गई जिनमें वो अपने खंडाला में बने फार्म हाउस पर फार्मिंग के काम करते नजर आए। एक्टर सुशांत सिंह राजपूत को लेकर भी ऐसी खबरे आई थीं कि वे फिल्मी दुनिया को छोड़कर किसानी करना चाहते थे और देशभर में 1 लाख पेड़ लगाना चाहते थे।
हाल ही में भारतीय क्रिकेट के सबसे पसंदीदा खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी ने भी अतंरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। जिसके बाद से ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि अब वो अपना ज्यादा वक्त ऑर्गेनिक फार्मिंग को देना चाहते हैं। वहीं लॉकडाउन शुरू होने पर भी धोनी ने सभी एडवर्टाइजमेंट से किनारा कर रांची के अपने फार्म पर ऑर्गेंनिक फार्मिंग करने का फैसला लिया। इस दौरान ट्रैक्टर चलाते हुए उनकी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी।
ऐसे ही और भी कई छोटे और बड़े पर्दे के सितारे हैं जो अभिनय से अलग फार्मिंग का शौक रखते हैं औऱ खाली वक्त में मिट्टी से जुड़ने की कोशिश भी करते हैं। फिल्मी सितारों पर ही नहीं, बड़ी बड़ीं कंपनियों की लाखों रुपये महीने की नौकरी करने वालों पर भी खेती का जुनून सवार हो जाता है, ऐसे खेती करने वाली हस्तियों की लिस्ट भी लंबी है। कईयों के जहन में सवाल आता है कि, ऐसा क्या है किसानी में जो बड़े-बड़े रोजगार और व्यवसाय ठुकरा-कर लोग खेतों की ओर चल पड़ते हैं? तो जवाब है नींव यानि आधार।

ये भी पढ़ें- केंद्र सरकार के फैसले से निराश गन्ना किसान

खेती हमारा आधार है और दुनिया का सबसे पुराना व उत्तम व्यवसाय भी। अगर पेटभर भोजन न मिले तो बाकी सारे व्यवसाय व्यर्थ हैं, इस बात को बीते 4-5 महीनों की उठा-पटक ने काफी बेहतर अंदाज में हर आमो-खास को समझा दिया है, लेकिन फिर भी इस सबसे महत्वपूर्ण व्यवसाय को एक बड़ी मानसिकता घाटे का सौदा कहती है, जो कि सच भी है। जैसे-जैसे खेती में होड़ ने कदम रखा वैसे-वैसे उत्पादन में बढ़ोत्तरी तो हुई लेकिन उपज की गुणवत्ता गिरती गई और लागत इतनी बढ़ गई कि सबसे उत्तम व्यवसाय ही घाटे का सौदा बन गया।
अब जैसे-जैसे पढ़े लिखे लोग और किताबी ज्ञान व आधुनिक तकनीकों की समझ रखने वाली युवा पीढ़ी खेती के व्यवसाय में कदम रख रही है, घाटे का सौदा समझी जाने वाली खेती की तस्वीर फिर बदल रही है। बड़े-बड़े व्यवसायों पर भारी पड़ने वाले कृषि क्षेत्र में एक बार फिर कामियाबी के नए अंकुर फूट रहे हैं जो कनक की फसलें तैयार करेंगे और देश अपने प्रधान व्यवसाय, कृषि के बल पर फिर से सोने की चिड़िया बनेगा।

Writer : Producer & Anchor – स्मिथा सिंह 

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *