February 21, 2024

Grameen News

True Voice Of Rural India

भाजपा विधायक चंदना बाउरी की कहानी, जिन्होंने झोपड़ी में रहकर जीता चुनाव

Sharing is Caring!

पश्चिमबंगाल में हुए विधानसभा चुनावों का रिजल्ट घोषित हो चुका है। रिजल्ट के मुताबिक टीएमसी ने भाजपा को राज्य में बुरी तरह से पराजित किया। लेकिन इस बीच राज्य में भाजपा की एक महिला विधायक ने जीत हासिल करके कई महिलाओं के लिए मिसाल पेश की है। बीजेपी के टिकट पर सालतोरा सीट से चुनाव लड़ने वाली चंदना बाउरी इस समय राज्य में चर्चा का विषय बनी हुई हैं। उन्होंने सालतोरा सीट से उनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे टीएमसी नेता संतोष मंडल को हराया है। लेकिन अब आप सोच रहे होंगे कि राज्य में टीएमसी नेताओं को और भी कई सीटों पर हार मिली है लेकिन चर्चा केवल चंदन बाउरी की ही हो रही है।

दरअसल, चंदन बाउरी के चर्चा में आने का मुख्य कारण उनकी सादगी और आर्थिक स्थिति है। दरअसल, चंदन बाउरी अनुसूचित जाति से आती हैं और एक झोपड़ी में रहती हैं। उनके पति मजदूरी करते हैं। तो वहीं वो खुद अपनी 3 बकरियों और 3 गायों के सहारे घर खर्च चलाती हैं। खास बात ये है कि, चंदना बाउरी ने अपनी उम्र भर की कमाई से बचत कर केवल 31 हजार 985 रूपये बचाए हैं। ये जानकारी उनके द्वारा दिए गए शपथपत्र में लिखी गई है। जबकि, चंदना ने अपना नामांकन पत्र भरते समय चुनाव आयोग को अपने बैंक में केवल 6335 रूपये होने की बात कही थी। साथ ही उस समय पति के खाते में केवल 1561 रूपये मौजूद थे। हालांकि, शपथपत्र में इस राशि को बढ़ाकर 30311 लिखा गया है।

Also Read- मध्यप्रदेश सरकार ने किया खरीद अवधि बढ़ाने का ऐलान,अब 15 मई तक जारी रहेगा खरीद कार्य

उनके पास किसी तरह की कृषि भूमि तक मौजूद नहीं है। दिहाड़ी मजदूरी करके ही दोनो पति पत्नी अपने घर का खर्च निकालते हैं। लेकिन चंदना 12वीं तक पढ़ी हैं। जबकि, उनके पति ने 8वीं तक पढ़ाई की है। पीएम आवास योजना के तहत उन्हें मिली राशि से ही उन्होंने पिछले साल अपना मकान पक्का करा पाया है। इससे पहले चंदना और उनका पति कच्चे मकान में रहा करते थे।

जहां चुनाव आते ही विधायक और नेता करोड़ो रूपये सिर्फ यूं ही प्रचार प्रसार में बर्बाद कर दिया करते हैं। तो वहीं चंदना ने बिना किसी प्रचार के चुनाव जीतकर एक मिसाल पेश की है। जब बीजेपी की तरफ से टीकट का ऐलान किया गया तो चंदना ने कहा कि, टिकट की घोषणा से पहले मुझे इस बात का भरोसा ही नहीं था कि मुझे राज्य में विधानसभा के लिए टिकट मिल सकता है। मुझे बहुत से लोगों ने ऑनलाइन ही टिकट के लिए आवेदन करने को प्रेरित किया था। मैं आवेदन किया था, लेकिन मुझे इस बात का कतई यकीन नहीं था कि बीजेपी की ओर से टिकट मिल जाएगा।’ अब चंदना बाउरी की जोरदार जीत के ट्विटर पर भी चर्चे हैं। टीएमसी की ओर से स्वप्न बरुई इस सीट से दो बार विधायक रह चुके हैं। इस बार उनका टिकट काट टीएमसी ने संतोष कुमार मंडल को मौका दिया था।

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.