December 3, 2022

Grameen News

True Voice Of Rural India

खेती की वजह से कम हुआ इंसान का कद, रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा

इंसान की लंबाई

खेती की वजह से कम हुई इंसान की लंबाई, रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा

Sharing is Caring!

क्या आपने कभी इस बात पर विचार करने की कोशिश है कि पहले की अपेक्षा आज के वक्त में आदमियों की औसतन लंबाई काफी कम है. लेकिन ऐसा क्यों है.. और इसका कारण क्या है.. इसका पता लगाने की कोशिश शायद ही किसी ने की होगी.. लेकिन इस पर रिसर्च कर रही वैज्ञानिकों की एक टीम ने पाया है कि इसके पीछे मुख्य वजह हमारे पूर्वजों द्वारा खेती करना है. दरअसल, यूरोप की एक रिसर्च टीम ने हाल ही में 167 प्राचीन लोगों के कंकाल के डीएनए का विश्लेषण किया है. जिसमें पता चला कि खेती करने की वजह से इंसान की लंबाई 1.5 इंच कम हो गई थी. जानकारी के लिए आपको बता दें कि यूरोप में 12 हजार साल पहले खेती की शुरुआत हुई थी. और तब की अपेक्षा आज इंसान की लंबाई में 1.5 इंच का फर्क देखा जा सकता है.

इस नए रिसर्च का नेतृत्व पेंसिल्वेनिया (Pennsylvania) के स्टेट कॉलेज में पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के मानव विज्ञान विभाग में असिस्टेंटट प्रोफेसर स्टेफनी मार्सिनियाक ने किया है. अपनी इस रिसर्च में इन वैज्ञानिकों ने पाया कि खेती से पहले इंसान शिकार किया करते थे और शिकार करके ही अपना जीवनयापन करते थे। लेकिन जब उन्होंने अपनी जीवनशैली को फसलों की ओर स्विच किया तो उनकी लंबाई में धीरे-धीरे फर्क आने लगा. यानी कि लंबाई का घटना उनके खराब स्वास्थ्य का प्रतीक माना जा सकता है. इससे पता चलता है कि शिकार से खेती की तरफ अपना रूख बदलने से उस समय़ इंसानों को उचित विकास के लिए पर्याप्त पोषण नहीं पा रहा था।

प्रोफेसर मार्सिनियाक का कहना है कि उनकी इस रिसर्च में उन्होंने केवल प्राचीन व्यक्तियों की हड्डियां नहीं मापी हैं बल्कि उनके जेनेटिक योगदान पर भी शोध किया है. जिसमें पाया गया कि कृषि जीवनशैली में ये परिवर्तन पूरे यूरोप में एक साथ नहीं हुआ है बल्कि अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग समय पर देखने को मिला है.

इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के अनुसार, ग्रीस में खेती से इंसान की लंबाई में प्रभाव पड़ना, लगभग 9 हजार साल पहले शुरू हुआ. वहीं, ब्रिटेन में भी अगले 2 हजार वर्षों तक इंसान की लंबाई प्रभावित नहीं हुई थी.  रिसर्च में ये भी सामने आय़ा है कि इंसानों की लंबाई 80 प्रतिशत तक आनुवांशिक होती है जबकि पर्यावरण के कारण इसमें 20 प्रतिशत का बदलाव आता है. हालांकि ये रिसर्च केवल यूरोप के प्राचीन कंकालों पर की गई है. जिसके चलते भारतीय लोगों की लंबाई पर कृषि का कितना प्रभाव पड़ा है ये नहीं कहा जा सकता है.

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.