September 18, 2021

Grameen News

True Voice Of Rural India

अफगानिस्तान के हालत पर विपक्ष के साथ केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

अफगानिस्तान

अफगानिस्तान

Sharing is Caring!
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां हालात बेहद खराब हो गए हैं। देश के मौजूदा हालात पर भारत सरकार ने अपनी रणनीति साफ करने पर चर्चा की। केंद्र सरकार की ओर से युद्ध से तबाह अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के बाद वहां की स्थिति पर चर्चा के लिए बुलाई गई ये अहम बैठक पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई।

दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी ने विदेश मंत्रालय से अफगानिस्तान के हालिया घटनाक्रम पर सभी विपक्षी राजनीतिक दलों के नेताओं को जानकारी देने को कहा था। महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने अफगानिस्तान की स्थिति को लेकर एक सर्वदलीय बैठक आयोजित करने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की ओर से केंद्र के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि सरकार को सभी दलों को विश्वास में लेना चाहिए और साथ ही कहा कि एक राष्ट्र के रूप में हमारा एक स्टैंड होना चाहिए।

अफगानिस्तान संकट पर होने वाली अहम बैठक में भारत सरकार की तरफ से विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और प्रहलाद जोशी भी मौजूद रहे। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भी इस बैठक में भाग लिया। वहीं तृणमूल कांग्रेस के प्रतिनिधि बैठक में शामिल हुए। लोकसभा में विपक्ष के नेता (एलओपी) अधीर रंजन चौधरी और राज्यसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बैठक में मौजूद रहे।

अफगान संकट पर चल रही सर्वदलीय बैठक में विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि अफगानिस्तान में हालात अच्छे नहीं हैं। जितनी जल्दी हो सके लोगों को वहां से निकालना जरूरी है। केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला द्वारा अफगानिस्तान संकट पर अहम जानकारी दी गई। इसके बाद सभी राजनीतिक दलों के नेताओं द्वारा सवाल पूछे गए और उनके सुझाव दिए गए।

इस बैठक में सरकार अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए सरकार की ओर से किए गए प्रयासों की जानकारी विपक्षी दलों को दी । इस बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर सभी दलों के नेता सदन को अफगानिस्तान के ताजा हालात और उसके मद्देनजर भारत के रुख के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद भारत सरकार क्या कूटनीतिक कदम उठा रही है, इस पर भी चर्चा हुई। ये बैठक ऐसे समय में हुई जब विपक्षी दलों ने सरकार से अफगानिस्तान संकट पर बयान जारी करने के लिए कहा।

दरअसल अफगानिस्तान में आए तूफान ने भारत समेत कई देशों के लिए संकट पैदा कर दिया है। साथ ही दक्षिण एशिया समेत कई मुल्कों के रणनीतिक समीकरणों को भी बदल दिया है। इन बदलावों को लेकर भारत जैसे देश में भी कई प्रश्न उठ रहे हैं और आज होने वाली सर्वदलीय बैठक में सरकार की तरफ से इन सवालों के जवाब देने की कोशिश की गई। ये ऐसे समय में हुआ है जब भारत सरकार युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान से अपने नागरिकों को निकाल रही है। अभी भी हर दिन भारतीय नागरिकों को अफगानिस्तान से निकालने के लिए कोशिशे की जा रही हैं।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd