February 21, 2024

Grameen News

True Voice Of Rural India

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार शराब से वसूलेगी गो कल्याण सेस

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार शराब से वसूलेगी गो कल्याण सेस देश में जब से बीजेपी की सरकार आई है तभी से अचानक गाय की फ़िक्र हर किसी को सताने लगी है। खासकर योगी सरकार गो वंश पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान है। सत्ता में आने के बाद उत्तर प्रदेश में तो गाय की जान इंसान की जान से भी ज़्यादा कीमती हो गई है। अब एक बार फिर योगी सरकार ने गोवंश के लिए एक विशेष कदम उठाया है। दरअसल उत्तर प्रदेश में आवारा घूम रहे गायों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार अब हर ग्राम पंचायत में कम से कम 1000 क्षमता वाले गोवंश आश्रय स्थल बनवाएगी। इसमे रहने वाले मवेशियों के रखरखाव के खर्च के लिए सरकार शराब सहित अन्य चीजों पर गो कल्याण सेस लगाएगी।
Sharing is Caring!

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार शराब से वसूलेगी गो कल्याण सेस देश में जब से बीजेपी की सरकार आई है तभी से अचानक गाय की फ़िक्र हर किसी को सताने लगी है। खासकर योगी सरकार गो वंश पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान है। सत्ता में आने के बाद उत्तर प्रदेश में तो गाय की जान इंसान की जान से भी ज़्यादा कीमती हो गई है। अब एक बार फिर योगी सरकार ने गोवंश के लिए एक विशेष कदम उठाया है।

दरअसल उत्तर प्रदेश में आवारा घूम रहे गायों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार अब हर ग्राम पंचायत में कम से कम 1000 क्षमता वाले गोवंश आश्रय स्थल बनवाएगी। इसमे रहने वाले मवेशियों के रखरखाव के खर्च के लिए सरकार शराब सहित अन्य चीजों पर गो कल्याण सेस लगाएगी।

जिससे इस गो कल्याण सेस के जरिए साल में लगभग 300-400 करोड़ रुपये की आय होगी। जिसे गाय की देखभाल में लगाया जाएगा। सबसे अहम फैसला ये है कि गायों के आश्रय स्थलों के वित्तीय प्रबंधन के लिए आबकारी विभाग शराब पर दो प्रतिशत ‘गौ कल्याण टेक्स लगाएगा।

सभी ग्रामीण और शहरी निकाय में अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल खोले जाएंगे। इसमें सभी ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत, नगर पंचायत, नगर पालिका और नगर निगम शामिल हैं। सरकार स्थानीय निकायों को इसके लिए 100 करोड़ रुपये पहले ही जारी कर चुकी है। जहां भी सरकारी स्कूलों या अस्पतालों में गोवंश बांधने व उस दौरान मृत्यु की घटनाएं हुई हैं उन जिलों के डीएम व एससपी को जांच के आदेश दिए गए हैं जिससे जो भी दोषी होगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। वैसे योगी सरकार के इस फैसले से एक धड़ा बेहद खुश है तो वहीं कुछ लोग इसे धर्म से जोड़कर देख रहे हैं। जबकि योगी सरकार के इस फैसले के बाद लोगों को भी सड़क पर घूमने वाले आवारा पशुओं से राहत मिलेगी और किसानों को भी अपनी फ़सल बर्बाद होने का डर नहीं रहेगा। पशु फसलों को क्षति पहुंचाते हैं। सड़कों पर इनकी मौजूदगी से मार्ग दुर्घटनाएं भी बढ़ी हैं। इस समस्या के समाधान के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ये फैसला लिया है। यही नहीं आश्रय स्थलों में सरंक्षित गोवंश को पशुपालन विभाग की सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी साथ ही गोवंश से उत्पादित दूध, गोबर, कम्पोस्ट आदि की बिक्री से आश्रय स्थलों को आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.