February 21, 2024

Grameen News

True Voice Of Rural India

तीनों भाई कर रहें हैं ऐसा काम, जो सुनता हैं वो करता हैं सलाम

तीनों भाई
Sharing is Caring!

हमारे देश में लोग ऐसे सोचते हैं की पहले अपना भर जाए दूसरो का बाद में सोचेंगे। लेकिन हर कोई ऐसे नही होता। गरीबी में रह कर भी दूसरों के बारे में सोचना बहुत बड़ी बात हैं। हम आपको हरियाणा के तीनों भाई के बारे में बता रहें हैं। जो रहते तो गरीबी में हैं लेकिन काम अमीरों वाले करते हैं। जी हां… फतेहाबाद के गांव काजलहेड़ी के दो सगे और एक चचेरा भाई का क्या कहना। पूरी दुनिया के लिए यह तीनों युवक मिसाल बन चुके है। गरीब परिवार से संबंध रखने वाले तीनों के परिवार मजदूरी करते हैं। इन भाईयों की खास बात ये है कि खुद गरीब और मजदूर होने के बावजूद ये तीनों गांव के 80 गरीब बच्चों को अपने घर में ही मुफ्त में ट्यूशन पढ़ाते हैं।

यह तीनों युवक भी गरीब हैं। तीनों युवक भी बच्चों को पढ़ना का पैसे मांग सकते हैं। लेकिन नही। यह लोग जानते हैं की गरीबी में रह कर पढ़ाई करना कितनी मुश्किल हैं। 24 साल के कुलबीर कुमार और 22 साल के संदीप कुमार दोनों सगे भाई सुबह अखबार बांटते हैं और दिन में मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं। तो विक्रम कुमार 11वीं में नॉन मेडिकल की पढ़ाई कर रहा है। कुलबीर डिस्टेंस से ग्रेजुएशन कर रहा है। संदीप बीए फाइनल में है। घर के एक कमरे में कंप्यूटर रूम बना रखा है। कुलबीर और संदीप सुबह 6 से 8:30 बजे तक गांवों में अखबार बांटते हैं। उसके बाद वह अपनी मजदूरी और कामकाज में लग जाते हैं। शाम को 4:30 से 7:30 बजे तक वह ट्यशन पढ़ाते हैं। विक्रम सुबह स्कूल जाता है, दोपहर बाद वह भी उनकी मदद करता है।

इतना ही नहीं, सुबह व शाम को नियमित एक-एक घंटे के लिए गांव के इन बच्चों को रेस, लांग जंप आदि खेलों की प्रैक्टिस भी कराते हैं। कुलबीर हिंदी व सामाजिक विषय पढ़ाता है, संदीप मैथ व कंप्यूटर व विक्रम भी मैथ पढ़ाता है। तीनों बच्चों को कक्षा के हिसाब से ग्रुप में बांट लेते हैं। वे प्राइमरी से दसवीं तक के बच्चों को पढ़ाते हैं। इन तीनों भाईयों की तारीफ जिनती की जाए उतनी कम हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.