किसान भाईयों ने विकसित की बैंगन की नई किस्म

1 min read
बैंगन

अंधारवाड़ी के किसान भाईयों ने विकसित की बैंगन की नई किस्म

Sharing is caring!

मध्य प्रदेश के अंधारवाड़ी के दो किसान भाईयों ने खेती में इनोवेशन करते हुए बैंगन की एक नई किस्म को विकसित किया है। जिसकों उन्होंने चंचल का नाम दिया है। खास बात ये है कि, किसान की इस किस्म को पौधा किस्म और कृषक अधिकार संरक्षण प्राधिकरण नई दिल्ली ने अपनी मंजूरी दे दी है। जिसके बाद से किसान की इन नई किस्म को केंद्र सरकार की बीज किस्मों में शामिल कर लिया गया है।

ये भी पढ़ें-कपास किसानों को सबसे आसान लोन देगा भारतीय स्टेट बैंक

जिसके चलते अब सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मध्य प्रदेश के अंधारवाड़ी के इस बैंगन की खेती की जा सकेगी। आपको बता दें कि, मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव अंधारवाड़ी के रहने वाले किसान शंकरराव चौहान और भागवतराव चौहान ने अपने खेत व नर्सरी में कई सालों की कोशिश के बाद अब जाकर बैंगन की इस किस्म को विकसित कर पाया है।

अंधारवाड़ी के इन चौहान भाईयों को पहले भी सर्वश्रेष्ठ किसानों का पुरस्कार मिल चुका है। किसान शंकरराव चौहान ने बैंगन की नई किस्म चंचल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस किस्म से उत्पादन क्षमता बढ़ती है। इस किस्म के बैंगन को लोग भरते के लिए अधिक उपयोग कर सकते है। वहीं खाने में भी अधिक स्वादिष्ट है। इसके फल का रंग हल्का हरा और सफेद है।

 

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *