True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 7th Nov- इस गांव के किसानों ने पेश की मिसाल

1 min read
Kisan Bulletin 7th Nov

Kisan Bulletin 7th Nov

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 7th Nov-

1.       जहाँ एक तरफ अरहर की नई फसल की आवक मंडियों में आने को है, वहीं देश की केंद्र सरकार ने इसके आयात की अवधि को बढ़ाने का फैसला लिया है. आपको बता दें कि, आयात की अवधि को बढ़ाकर 15 नवंबर 2019 तक कर दिया है. जिसके चलते कीमतों पर भी इस असर दिखाई दे रहा है. इस समय मंडियों में अरहर की कीमत 300 रुपये घटकर 5,800 से 5,900 रुपये प्रति क्विंटल रह गई है. गौरतलब है कि, मंडियों में अरहर की आवक दिसंबर में शुरू हो जाएगी. आपको बता दें की विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार अरहर का आयात अब 15 नवंबर 2019 तक किया जा सकेगा. वहीं इससे पहले अरहर, उड़द और मूंग के आयात की अनुमति 31 अक्टूर 2019 तक दे रखी थी. बीते दिन डीजीएफटी की जारी से जारी अधिसूचना के अनुसार कहा गया कि, उड़द और मूंग का आयात तो नहीं किया जा सकेगा, हालांकि अरहर के आयात की अवधि 15 नवंबर तक बढ़ा दी जाएगी. गौरतलब है कि, ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन की तरह से अरहर के आयात की अवधि को बढ़ाने की मांग की गई थी. साथ ही उड़द आयात की मात्रा को भी डेढ़ लाख टन से बढ़ाकर 2.5 लाख टन करने की बात कही गई थी और वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोलय को पत्र लिखा था.

2. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जहां एक तरफ अन्ना मवेशियों के लिए गोशालाओं का निर्माण कराने के लिए राहत कोष से फंड जारी कर रही है. मगर इसके बाद भी किसानों को इन सरकारी योजनाओं से कोई राहत नहीं मिल पा रही है.. यही वजह है की किसान खुद ही इससे निपटने का हल तलाश रहे हैं. कुछ इसी तरह की मिसाल प्रदेश के बिसंडा क्षेत्र के कैरी गांव के किसानों ने पेश की है. आपको बता दें कि, यहां के किसान पिछले काफी समय से प्रशासन सेगोशाला बनाने की मांग कर रहे थे. हालांकि उसके बाद भी प्रशासन उनकी सुन नहीं रहा था. जिसके चलते गांव के किसानों ने मिलजुल कर गांव में अस्थायी गोशाला बना ली. जिसकी जमीन से लेकर सभी व्यवस्थाएं तक किसानों ने खुद  है। आपको बता दें कि, ये किसान लगभग डेढ़ सौ अन्ना पशुओं को इस गोशाला में संरक्षित कर अपनी खेती बचा रहे हैं। गांव के ग्राम प्रधान राकेश कुमार की जानकारी के अनुसार, गोशाला के लिए गांव के ही एक किसान शिवविलास उर्फ हारी पटेल ने अपनी उपजाऊ जमीन सौंप दी है… इस गोशाला में चारो ओर लोहे के तार और खंभे लगाकर बैरीकेडिंग की गई है। तो वहीं पशुओं के लिए पानी की भा व्यवस्था की गई है। गोशाला को बनाने में गांव के सभी किसानों ने इसमें अपना पूरा सहयोग दिया है।

3.  जहां एक तरफ देश में बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर लोगों में हाहाकार मचा हुआ है.. तो वहीं दूसरी तरफ इससे बेखबर चंड़ीगढ़ के माहोली में किसान पराली जला रहे है… दरअसल, हाल ही में पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की ओर से पराली जलाने को लेकर मोहाली से कुछ सेटेलाइट इमेज इक्ठ्ठा किए गए हैं, जिसमें करीब 182 जगहों पर पराली जलाने के निशान मिले हैं। जिनमें से करीब 161 खेतों में बोर्ड के फील्ड स्टाफ ने जाकर विजिट भी किया.. तो वहीं सैटेलाइट के जरिए मिली सूचना के आधार पर 48 घंटो बाद घटनास्थल पर वीजिट के दौरान भी 85 स्थलों पर पराली जलती हुई पाई गई। जिनमें से 76 किसानों पर 2.30 लाख रुपए का जुर्माना एन्वायर्नमेंटल कंपनसेशन के तौर पर किया गया है। तो वीहं इन 76 किसानों में से 75 किसानों के रेवेन्यू रिकॉर्ड में रेड एंट्री कर दी गई है। ताकि पराली जलाने वाले किसानों का किसी प्रकार का कोई सरकारी कंपेंसेशन, सब्सिडी, लोन न मिल सके। जबकि बाकी किसानों पर एफआईआर दर्ज करने की प्रक्रिया अभी जारी है।

4.  मध्य प्रदेश के कृषि विज्ञान केन्द्र ग्वालियर में सरसों की फसल पर प्रदर्शनों का आयोजन किया जा रहा है,जिसके तहत जिन किसान भाईयों को सरसों की फसल पर प्रदर्शन लेना है वो क्रषि विज्ञान केन्द्र ,ग्वालियर में जाकर  नि:शुल्क सरसों के बीज की किस्म NRCHB -101 को ले सकते है।

खेती-बाड़ी से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *