True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 6th Nov- एक बार फिर प्याज के दाम 80 के पार

1 min read
Kisan Bulletin 6th Nov

Kisan Bulletin 6th Nov

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 6th Nov-
  1. जहां एक तरफ सरकार किसानों को बेहतर सुविधाऐं देने के लिए नई योजनाओं से लेकर नई नई तकनीकें लेकर आ रही है. वहीं धरातल पर इससे संबंधित अधिकारी किसानों को परेशान करने से बाज नहीं आ रहे हैं. ताजा मामला मध्यप्रदेश के सागर तहसील के लिधौरा हाट का है. जहां रिश्वत न दे पाने के कारण किसान को सीमांकन बंटवारे के लिए सालभर से ज्यादा चक्कर लगवाया गया. आपको बता दें की किसान भूपेंद्र सिहं लोधी ने अपने हल्का पटवारी शैलेंद्र सकवार द्वारा अपनी जमीन का सीमांकन और बंटवारा करने की अर्जी लगाई थी. हालांकि पिछले एक साल से पटवारी शैलेंद्र सकवार उसे तहसील के चक्कर लगवा रहे हैं. जिसकी सूचना किसान ने लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक ऑफिस में की थी. वहीं पटवारी काफी समय से किसान के 15 हजार रुपए रिश्वत की मांग कर रहा था. लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक न होने के चलते किसान रुपए नहीं दे सका. जिसके चलते उसे एक साल से घुमाए जा रहा था. वहीं बीते दिन हाल्के के पटवारी को लोकायुक्त ने पटवारी को उसी के घर रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ लिया. आपको बता दें कि, पटवारी ने किसान से रिश्वत लेने के लिए उसे अपने घर बुलाया था. इस दौरान इसकी सूचना किसान ने लोकायुक्त पुलिस को दे दी थी. वहीं किसान के इशारे पर लोकायुक्त पुलिस ने पटवारी को रंगेहाथ रिश्वत लेते हुए पकड़ा. जिसके बाद रिश्वत लेने वाले पटवारी पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया. जिसकी सूचना लोकायुक्त एसपी रामेश्वर यादव ने दी और कहा कि, किसान ने हमें फोन की रिकॉर्डिंग भी दी है. जिसकी सैंपलिंग की जा रही है.
  2. जहां एक तरफ इस साल हुई अच्छी बारिश से कई किसानों के चहरे खिल उठे थे, तो वहीं दूसरी तरफ हाल ही में हुई बेमौसम बरसात महाराष्ट्र के किसानों पर मुसीबत बनकर टूटी है। आपको बता दें कि, हाल ही में मराठवाड़ा के नांदेड़ जिले के कंधार में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के सामने किसान रोते हुए नजर आए… जिसको देखते हुए उद्धव ठाकरे ने भी किसानों को हौसला बढ़ाया.. इतना ही नहीं, इसी के साथ उन्होंने ये भी ऐलान किया कि, शिवसेना महाराष्ट्र के हर जिले में किसानों के लिए मदद केंद्र बनवाएगी.. जिससे जरिए किसानों को जल्द से जल्द मदद मिल सके.. जानकारी के अनुसार, उद्धव ठाकरे ने को मराठवाड़ा जिले के कन्नड़ और वैजापूर का दौरा किया जहां जाकर उन्होंने किसानों से बातचीत की, तो वहीं एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने भी नासिक जिले का दौरा कर किसानों का हौसला बढ़ाया। जहां एक तरफ नेता किसानों से मुलाकात कर मदद का आश्वासन दे रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर राज्य में सरकार बनाने को लेकर खींचतान अभी भी जारी है. हालांकि, अभी तक महाराष्ट्र के सत्ता की चाभी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के हाथों में ही है। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से किसानों को 10 हजार करोड़ की मदद देने का ऐलान भी किया है।
  3. हाल ही में हुई बेमौसम बरसात ने ना सिर्फ किसानों के लिए परेशानी खड़ी की है बल्कि, आम जनता के लिए भी मुसीबत का पहाड़ खड़ा कर दिया है… दरअसल, प्याज के प्रमुख उत्पादक राज्यों महाराष्ट्र, कर्नाटक और राजस्थान में बेमौसम बारिश से प्याज की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। जिसके चलते इसकी कीमतों में एक बार फिर से तेजी आई हैं। आपको बता दें कि, दिल्ली-एनसीआर में प्याज के खुदरा दाम एक बार फिर बढ़कर 75 से 80 रूपये किलों को पार कर गए हैं। तो वहीं महाराष्ट्र की मंडियों में प्यज की कीमतों में 35 से 38 फीसदी की तेजी आई है। किसानों की मानें तो लगातार हो रही बारिश के चलते खेतों में प्याज की निकासी नहीं हो पा रही हैं. जिस कारण मंडी में दैनिक आवक में कमी आ गई है। अब जब तक मौसम साफ नहीं होता तब तक कीमतों में गिरावट आने की कोई उम्मीद नहीं है। आपको बता दें कि, दिल्ली की आजादपुर मंडी में बीते मंगलवार को प्याज के भाव 20 रूपये से बढ़कर 62.50 रूपये प्रति किलो हो गए है…तो वहीं महाराष्ट्र की पीपलगांव मंडी में मंगलवार को प्याज के भाव 21 से 53 रुपये प्रति किलो हो गए.. पुणे मंडी में प्याज के भाव मंगलवार को 52.50 रुपये प्रति किलो हो गए। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान महाराष्ट्र में सामान्य से 157 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है जबकि पहली नवंबर से पांच नवंबर तक राज्य में सामान्य से 143 फीसदी, कर्नाटक में 99 फीसदी, गुजरात में 242 फीसदी और राजस्थान इस दौरान 134 फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई।
  खेती-बाड़ी से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें- https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *