Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 3rd Dec- उत्तर प्रदेश के किसानों को मिला बड़ा तोहफा

1 min read
Kisan Bulletin 3rd Dec

Kisan Bulletin 3rd Dec

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 3rd Dec- 

  1. हमारे देश के किसानों की हालत आज के समय में किसी से छिपी नहीं है. चाहे बात प्राकृतिक आपदाओं की करें या फिर किसानों की फसल पर जंगली जानवरों के अत्याचारों की, हर तरफ से किसान आए दिन परेशान रहते हैं. जिसके चलते किसान नए-नए तरीके आजमाते रहते हैं. कुछ इसी तरह कर्नाटक के कॉफी और सुपारी फसल के किसानों ने जंगली जानवरों से अपनी फसल बचाने के लिए नायाब तरीका खोज निकाला है. आपको बता दें कि शिवमोगा जिले के किसानों ने अपनी फसल को बंदरों से बचाने के लिए अपने पालतू कुत्तों को बाघ के रंग में रंग दिया है. यही नहीं इन दिनों यहां के किसान गोवा से बाघ के खिलौने मंगवा चुके हैं ताकि उन्हें बंदरों से इन्हें छुटकारा मिल सके. हालांकि इन खिलौने का रंग जल्दी हल्का पड़ गया. जिसके चलते बंदरों का आंतक फिस से फैल गया. जिसके चलते किसानों ने अपने ही पालतू कुत्तों को बाघ की तरह रंगने का नायाब तरीका ढूंढ़ लिया है. एक किसानों की मानें तो उनका कहना है कि, वो अपने कुत्तों को दो बार खेतों में ले जाते हैं, कुत्तों को देखकर बंदर डरकर भाग जाते हैं. यही वजह है कि, इन दिनों यहां के किसान इस तरीके का इस्तेमाल कर रहे हैं.
  2. बीते 29 नवंबर को भारतीय किसान यूनियन, कर्नाटक राज्य किसान संघ, केरला कोकोनट फार्मर्स एसोशिएशन, तमिझागा विवासाइगल संगम, जैसे किसान संगठनों ने बेंगलुरू में हुई बैठक में ये फैसला लिया, कि देश के सभी राज्यों में आने वाली 21 दिसंबर को जिला अधिकारी कार्यालय पर किसान हल क्रांति चलाएंगे.. जिसमें किसान अपने हल, फावड़ा, हंसुआ लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पर इस हल क्रांति में शामिल होंगे..  इसके अलावा भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने RCEP को लेकर एक बयान दिया है, जिसमें उन्होंने कहा कि, भाकियू के विरोध के चलते ही अभी सरकार ने इसे मार्च तक रोक दिया है, मगर हम इसका विरोध करते हैं तो वहीं किसान की कई समस्याओं को लेकर  21 दिसंबर 2019 को उत्तर प्रदेश में और 21 दिसंबर से लेकर 27 दिसंबर तक देशभर में हल क्रांति आंदोलन चलाया जाएगा, जिसमें देशभर के कई किसान संगठन शामिल होने वाले हैं.. जिसके चलते अगर सरकार किसानों की मांगो को नदरअंदाज करती है तो किसान एक बड़ा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे…
  3. उत्तर प्रदेश के किसानों के लिए राज्य सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है.. इस फैसले से ना सिर्फ किसान खुश हैं बल्कि, ये किसानों की आय में इजाफा करने का भी एक साधन बन सकता है.. दरअसल, उत्तर प्रदेश सरकार राज्य में अंतराष्ट्रीय आलू केंद्र यानि की International centre of potato की स्थापना करने जा रही है.. जिसका मुख्यालय भी बनकर तैयार हो चुका है.. जो कि, पेरू के राजधानी शहर लीमा में स्थित है.. इतना ही नहीं, इसको केंद्र सरकार ने भी अपनी सहमति देदी है.. आपको बता दें कि, इस केंद्र के जरिए आलू की पैदावार करने वाले किसानों को काफी फायदा मिलेगा.. साथ ही, यूपी में प्रति हेक्टेयर आलू उत्पादन बढ़ाने में मदद मिलेगी.. उत्तर प्रदेश में हर साल करीब 7 लाख हेक्टेयर जमीन पर आलू का उत्पादन किया जाता है.. जिसमें करीब 155 लाख मीट्रिक टन आलू की पैदावार होती है.. तो वहीं उत्तर प्रदेश को आलू उत्पादन का सबसे बड़ा गढ़ भी माना जाता है..  आपको बता दें कि, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंतरराष्ट्रीय पोटेटो सेंटर खोलने के लिए पहले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखा है… साथ ही खबरों की मानें तो,  जल्द ही मुख्य सचिव आरके तिवारी सीआईपी, लीमा के प्रतिनिधियों के साथ बैठक भी करने वाले हैं.., जिसके बाद आगे की रूपरेखा तैयार की जाएगी.तो वहीं इस केंद्र को आगरा में खोले जाने की संभावना सबसे ज्यादा है.. क्योंकि पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा आलू उत्पादन यहीं होता है.

खेती-बाड़ी से जुड़ी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *