Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 1st Jan- केले की नेंड्रम प्रजाति देगी मुनाफा

1 min read
Kisan Bulletin 1st Jan

Banana palms plantation,bunches of green bananas on a branch of banana palm, unripe already large fruits

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 1st Jan-

  1. पिछले कुछ दिनों से जहां केले की प्रजाति नेंड्रम में झुलसा रोग लगने से किसानों को काफी नुकसान पहुंचा है. वहीं केलांचल के नाम प्रसिद्ध कटिहार जिले सहित कोसी के भी किसानों को को पनामा बिल्ट ने केला की खेती में काफी नुकसान पहुंचाया था. जिससे परेशान किसानों ने केले की खेती से बंद करने की शुरुवात कर दी है. हालांकि लगातार हो रहे नुकसान और घाटे के कारण किसान एक बार फिर केले की खेती करने की शुरुवात कर रहे हैं. आपको बता दें कि, जलवायु और केला उत्पादन की असीम संभावनाओं को लेकर केले की खेती को बढ़ावा देने के लिए वैज्ञानिकों की एक टीम ने रोगमुक्त प्रभेद के केले की किस्म के चयन के लिए पिछले तीन सालों से मेहनत कर रही है. अब तक तीन सौ किस्मों पर रिसर्च हो चुके पांच प्रभेदों में रोग की संभावना न के बराबर पाई गई है. जिसमें केरल की नेंड्रम प्रजाति सबसे ऊपर है. ये प्रजाति पूरी तरह रोगमुक्त है. जिसके चलते वैज्ञानिकों ने किसानों को सुझाव दिया है कि, वो आने वाले दिनों में नेड्रम प्रजाति के केले की खेती करें. जिसके चलते आने वाले दिनों में केले की खेती में किसानों को बेहतर उत्पादन मिल सकता है.
  2. किसान विरोधियों नीतियों के विरोध में आने वाली 8 जनवरी को छत्तीसगढ़ के रायपुर में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ग्रामीण भारत बंद और किसान आंदोलन करेगी. आपको बता दें कि, ये आंदोलन केंद्र की भाजपा और राज्य की कांग्रेस सरकार की कृषि और किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ गांव बंदी करके किया जाएगा. आपको बता दें कि, इसका फैसला बीते रोज किसानों, आदिवासियों और दलितों के बीच काम करने वाले 20 संगठनों के साथ 35 किसान नेताओं ने किया. साथ ही किसान संगठन ने पूरे राज्य के किसानों से अपील की है कि वे आठ जनवरी को सब्जी, दूध, मछली, अंडे के साथ कृषि उत्पादों को शहरों में न लाकर बेंचे न ही ग्रामीण व्यवसायी शहरों में जाकर खरीदारी न करें. साथ ही उन्होंने कहा कि, इस दिन सभी लोग अपने गांव की दुकानें और काम-काज बंद रखकर सड़क रोकें और केंद्र के साथ राज्य सरकारों को किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ इस धरना में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें. वहीं किसान संगठन ने कहा कि, मंडियों, जनपदों व पंचायतों सहित सभी जगह इस दिन सभाएं भी आयोजित की जाएंगी, आपको बता दें कि आंदोलनकारी किसान संगठनो ने दोनों सरकारों से 18 सूत्रीय मांगपत्र की मांगों मानने की बात कही है. जिसमें स्वामीनाथन आयोग के साथ सी-2 लागत का डेढ गुना मूल्य पर खरीदी करने की भी बात कही है. जबकि 60 से अधिक साल के किसानों को 5000 रुपये मासिक पेंशन देने बात सरकार के सामने रखी है.
  3. इन दिनों जहां प्याज के दाम पूरे देश में आसमान छू रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ कई किसानों को इन दिनों प्याज के चलते ही काफी लाभ भी पहुंच रहा है. जिसके चलते किसान मालामाल हो रहे हैं. हालांकि बीते रोज एक अनोखी खबर राजस्थान के अलवर जिले से सामने आई. जहां एक किसान ने अपनी मेहनत से अपने खेत में प्याज लगाई थी. जब वो तैयार हुई तो किसान ने उनक प्याज को बेचकर तीन लाख रुपये का मुनाफा कमाया. हालांकि इसके बाद किसान ने इन पैसों को गोशाला को दान में दे दिया. इसके साथ ही किसान ने बाकी बची 50 किलो प्याज को गरीबों के बीच फ्री में दान कर दिया. अलवर जिले के मस्ताबाद गांव के रहने वाले किसान बबलू चौधरी के खेतों में इस बार प्याज की फसल काफी अच्छी हुई थी. वहीं अच्छी पैदावार के चलते इन दिनों अच्छी आमदनी हुई थी. जिसे उन्होंने गोमाता की कृपा मानकर मस्ताबाद गांव की ही गोशाला को दान कर दिया. वहीं बबलू चौधरी की मानें तो उनका कहना है कि, पिछले साल प्याज की अधिक पैदावार के चलते किसान काफी परेशान थे. क्योंकि उनकी प्याज यूं ही सड़ गई थी. इसलिए मैंने अपने प्याज को ज्यादा तवज्जो नहीं दी थी. हालांकि उपज उसके बाद भी बेहतर हुई और मुझको मुनाफा हुआ.

खेती-बाड़ी से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *