Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 14th Nov-फसलों को कीटों से बचाएगा सोलर ट्रैप

1 min read
Kisan Bulletin 14th Nov

Kisan Bulletin 14th Nov

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 14th Nov-

  1. आमतौर पर अपनी फसलों को कीटो से बचाने के लिए किसान खेतों में कीटनाशकों का इस्तेमाल करते हैं, मगर इससे उनके खेतों की उर्वरा क्षमता में कमी आ जाती है.. और साथ ही मिट्टी की उपजाऊ शक्ति भी कम होती है.. ऐसे में अगर किसान सोलर ट्रैप का इस्तेमाल करें तो इससे ना तो मिट्टी की उपजाऊ शक्ति को नुकसान पहुंचेगा और ना ही कीटनाशकों के चलते फसलें बर्बाद होंगी.. इतना ही नहीं, इससे कीटनाशक खरीदने का खर्च भी बचेगा.. चलिए अब आपको बतातें है कि, आखिर ये सोलर ट्रैप काम कैसे करता हैं..  दरअसल, ये एक तरह का सोलर लैंप है, जिसकों किसान अपने खेतों में लगा सकते हैं.. और अंधेरा होने पर ये लैंप खुद-ब-खुद जल उठता है. बस फिर कुछ ही समय में इस सोलर लैंप के नीचे कई कीट इकठ्ठा होंने शुरू हो जाते हैं, और लैंप के नीचे रखे तेल के पानी में गिरकर मर जाते हैं तो वहीं कुछ कीट लैंप की लाइट से ही अपनी जान गवां देते हैं। आपको बता दें कि, ये तकनीक पूरी तरह से इको फ्रैंडली तकनीक है। इसके चलते ना सिर्फ किसानों अपनी फसलों को कैमिकल के छिड़काव से बचा सकतें हैं, बल्कि, कीटनाशक के छिड़काव से जो फसलों की क्वालिटी खराब होती है उससे भी बच सकते हैं.. एक बार चार्ज करने पर ये सोलर ट्रैप करीब 5 घंटो तक काम करता है.. इसके अलावा 5 सालों तक इसके ऊपर आपको कोई असल से खर्चा करने की जरूरत नहीं होगी..

2. जहां पेराई सत्र की शुरूवात होने को है, वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते दिन गन्न किसानों के लिए गन्ना मोबाइल ऐप लॉन्च किया है. उत्तर प्रदेश के लोकभवन में गन्ना मोबाइल ऐप को लॉन्च करते हुए, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, पिछले तीस साल की मांग के मद्देनजर ही रमाला चीनी मिल की शुरूवात की गई है. वहीं योगी ने पिछली सरकारों पर आरोप लगाते हुए कहा कि पहले की सरकारों ने गन्ना समितियों को कमजोर किया है. यही वजह थी कि, उस दौरान गन्ना माफिया हावी हुए, पर्चियों की कालाबाजारी काफी शुरू हुई, साथ ही गन्ने की घटतौली भी की जाने लगी, हालांकि हमारी सरकार ने इस पर रोक लगाया. वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, पिछले पंद्रह सालों की अगर बात करें तो किसानों ने ऐसा मान लिया था गन्ना की खेती करना घाटे भरा सौदा है. हालांकि हमारी सरकार ने इसे लाभ का काम व खेती बना दिया है. यही वजह है कि, इस बार लगभग 50 लाख किसानों को लाभ होने के आसार हैं, वहीं गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि, आज सरकार की नीतियों की ही असर है कि आज यूपी का किसान खुश है. जहां पहले के समय में 20.52 हेक्टेयर गन्ना क्षेत्र था वहीं आज के समय में 28 लाख हेक्टेयर गन्ना क्षेत्र है. ये किसानों का सरकार पर भरोसा ही है. जो प्रदेश को आगे ले जा रहा है.

3. जहां दिनों दिन एक तरफ जमीन का जलस्तर गिर रहा है, वहीं आए दिन किसानों को फसल उगाने से लेकर उसे बेचने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इसी को देखते हुए इस समय हरियाणा के फतेहाबाद में मौजूद बढ़ाई खेड़ा गांव किसानों के लिए मिसाल बनने जा रहा है. आपको बता दें की यहां के किसान इस समय गिरते जलस्तर को बचाने को लेकर अपने खेतों में विभिन्न फलों के बाग लगाने जा रहे हैं. जिसके चलते अभी तक गांव की 150 एकड़ भूमि पर विभिन्न फलों के बाग लगाए जा चुके हैं. वहीं इससे पहले गांव की 80 एकड़ जमीन पर फलों के बाग लगाए जा चुके हैं. जिससे यहां के किसान मुनाफा कमा रहे हैं. गौरतलब है कि, जहां गांव के किसानों की ये अनोखी पहल है. वहीं इससे गांव की जमीन का जलस्तर भी बढ़ेगा साथ ही आने वाले दिनों में किसानों की आमदनी में काफी मुनाफा होगा. वहीं गांव के रहने वाले एक किसान की मानें तो उन्होंने बताया कि, गांव के 150 एकड़ जमीन पर इस समय फलों का बाग लगाया जा चुका है. इसका फैसला गांव के सभी किसानों ने मिलकर लिया है. वहीं एक और किसान की मानें तो घटते जलस्तर और फसलों को बेचने में आती दिक्कतों के चलते गांव के किसानों ने लगाने का फैसला लिया है.

खेती-बाड़ी से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *