January 26, 2021

Grameen News

True Voice Of Rural India

राष्ट्रीय किसान महासंघ के आह्वान पर 6 जून को देशभर में मनेगा किसान शहीदी दिवस

राष्ट्रीय किसान महासंघ

राष्ट्रीय किसान महासंघ के आह्वान पर 6 जून को देशभर में मनेगा किसान शहीदी दिवस

Sharing is caring!

हाल ही में हुई राष्ट्रीय किसान महासंघ के वरिष्ठ नेताओं की चर्चा में किसानों से जुड़े अनेक मुद्दों को लेकर बात की गई, साथ ही आने वाली 6 जून को पूरे देश में किसान शहीदी दिवस मनाने का भी फैसला लिया है. आपको बता दें कि, इस कॉनफ्रेंस में मध्यप्रदेश से शिव कुमार कक्काजी, पंजाब से जगजीत सिंह दल्लेवाल, उत्तरप्रदेश से हरपाल चौधरी, कर्नाटक से शांताकुमार और देव कुमार, केरल से के. वी. बीजू जबकि, हरियाणा से अभिमन्यु कोहाड़ ने भाग लिया था।

जिसमें पिछले 70 सालों में पूरे देश में पुलिस कारवाई और गोलीकांड में शहीद हुए किसानों को 6 जून को श्रद्धांजलि देने का फैसला लिया गया। इस दिन देश के लाखों किसान अपने-अपने घरों में 1 दिन का सांकेतिक उपवास रखेंगे और सोशल मीडिया के माध्यम से किसानों को जागरूक करेंगे। साथ ही, किसानों की समस्याओं पर एक ज्ञापन सभी जिलों से प्रधानमंत्री को भेजा जाएगा। कोरोनावायरस के कारण सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए यह ज्ञापन ईमेल के माध्यम से भेजा जाएगा।

इसके अलावा, C2+50% के फार्मूले के अनुसार MSP देने के विषय पर राष्ट्रीय किसान महासंघ ने 6 मई को प्रधानमंत्री और कृषि मंत्री को एक पत्र लिखा था। जिसके बाद 15 मई को कृषि मंत्रालय की ओर से जवाब भी आया। इसमे कहा गया था कि, सरकार C2+50% के फार्मूले के अनुसार 24 फसलों का MSP दे रही है। C2 फॉर्मूले के अनुसार, लागत मूल्य निकालते वक्त सरकार सब चीजों का खर्च जोड़ती है। जैसे- जमीन का किराया, मजदूरी का खर्च (पारिवारिक मजदूरी भी शामिल है), ट्रैक्टर व अन्य उपकरणों का खर्च, बीज, उर्वरक, बिजली, डीजल, सिंचाई पर खर्च और कार्यशील पूंजी पर ब्याज।

जबकि, राष्ट्रीय किसान महासंघ के अनुसार, इन सब खर्चों को शामिल करने पर जो वास्तविक लागत मूल्य है वो सरकार के आंकड़े से कही अधिक है। राष्ट्रीय किसान महासंघ ने फैसला लिया है कि, हर राज्य की मुख्य फसलों की वास्तविक लागत मूल्य वरिष्ठ किसान नेताओं द्वारा निकाली जाएगी और उसके आंकड़े प्रधानमंत्री कार्यालय और कृषि मंत्रालय को भेजे जाएंगे। साथ ही, आने वाले वक्त में C2 लागत मूल्य के सरकारी आंकड़ों को किसान महासंघ सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज भी करेगा।

 

Inspiring And Positive Stories के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd