February 21, 2024

Grameen News

True Voice Of Rural India

महाराष्ट्र में साइकिल पर “किसान आत्महत्या” रोकने निकले बालासाहेब कोलसे, 16 जिला कलेक्टरों को सौंप चुका है ज्ञापन

बालासाहेब कोलसे
Sharing is Caring!

किसानों की आत्महत्या भारत में हमेशा से एक गरम मुद्दा बना रहा है। जिसे ना सिर्फ विपक्ष द्वारा सरकार पर निशाना साधने के लिए इस्तेमाल किया जाता है बल्कि चुनाव के दौरान तो हमेशा से ही इसे किसानों को अपना वोट बैंक बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता रहा है। अभी कुछ वक्त पहले ही देश में साल 2020 के दौरान हुई किसान आत्महत्याओं का आकंड़ा जारी किया गया था जिसमें देश के महाराष्ट्र राज्य में सबसे ज्यादा किसानों द्वारा खुदकुशी करने की बात सामने आई थी।

कभी प्रकृति की मार, तो कभी कर्ज का बोझ.. इन सबके बीच फंसा किसान.. नुकसान होने पर आत्महत्या की ओर बढ़ता चला जाता है… लेकिन इसे रोका कैसे जाए., इसके बारे में कभी ना तो कोई बात की जाती है और ना ही कोई जरूरी कदम उठाए जाते हैं.. ऐसे में एक युवा किसान खुद ही खुदकुशी को रोकने के लिए अपनी साइकिल उठाकर निकल पड़ा है लोगों में ये जागरूकता पैदा करने कि खुदकुशी करना किसी  समस्या का समाधान नहीं है..

इतना ही नहीं, बालासाहेब कोलसे अपने इस काम से लोगों में अलख जगाने के लिए सभी जिला कलेक्टरों से भी निवेदन कर रहा है कि वो किसान आत्महत्या के मूल कारणों का पता लगाएं.. साथ ही किसानों का मार्गदर्शन करने में उसकी मदद करें.. आपको बता दें कि, इस किसान का नाम बालासाहेब कोलसे है जो कि अपनी इस मुहीम में सफलता हासिल करने की कोशिश में अब तक 1800 किलोमीटर का सफर अपनी साइकिल से तय कर चुके हैं और करीब 16 जिलों के कलेक्टरों को ज्ञापन भी सौंप चुके हैं।

बालासाहेब कोलसे की मानें तो लोग कहते हैं कि कृषि के क्षेत्र में कई अवसर हैं लेकिन धरातल पर उतरकर हकीकत इससे बिल्कुल परे हैं। और इसी कारण जब किसानों को कृषि में नुकसान उठाना पड़ता है तब वो आत्महत्या की ओर बढ़ जाते हैं। ऐसे में बालासाहेब ने प्रशासन से समस्या का पता लगाने और उसका समाधान निकालने की मांग की है। उन्होंने प्रशासन से ऐसा नियम बनाने की मांग की है कि जिसके तहत किसान खुद अपनी उपज की कीमत तय कर सके और सरकार द्वारा दी जाने वाली प्रति एकड़ सब्सिडी का भुगतान उत्पादन लागत के लिए किया जाए.. कृषि उपज की गारंटी दी जाए और सभी किसानों को कर्ज से राहत दी जाए.

खेती-बाड़ी और किसानी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/c/Greentvindia/videos

Positive And Inspiring Stories पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

http://Hindi.theindianness.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © Rural News Network Pvt Ltd | Newsphere by AF themes.