Grameen News

True Voice Of Rural India

भारत पहुंचे चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग, इन मुद्दों पर होगी बात

1 min read
Xi Jinping

Xi Jinping

Sharing is caring!

चीन और भारत के मध्य रिश्तों को और मजबूत करने के लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग भारत पहुँच चुके हैं, चेन्नई में पारंपरिक तरीके उनका भव्य स्वागत हुआ। शी जिनफिंग का यह भारत दौरा ऐसे समय पर हो रहा है भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने को लेकर तनाव बना हुआ है। हमेशा पाकिस्तान का साथ देने वाला और सभी अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भारत का विरोध करने वाला चीन किस तरीके से दोनों देशों के रिश्तों को एक नई दिशा देने का काम करेगा यह तो वक्त ही बताएगा। चीन के राष्ट्रपति के भारत दौरे से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मिले थे जिसमें दोनों के मध्य कश्मीर मुद्दे को लेकर चर्चा हुई थी इस पर चीन ने अपने बयान से पलटे हुए कहा था कि कश्मीर मुद्दे को यूएन चार्टर के मुताबिक सुलझाना चाहिए। जिसको लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने आपत्ति जताई थी। इस बार चीन के राष्ट्रपति और भारतीय प्रधानमंत्री की यह दूसरी अनौपचारिक बैठक है। यह बैठक चीन के मामल्लापुरम में होनी है।

कश्मीर मुद्दे पर हो सकती है अहम चर्चा 

चीन के राष्ट्रपति यहाँ एक बिजनेस सम्मिट में शामिल होंगे। इस दौरान वो भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिलेंगे। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के मध्य होने वाली यह मीटिंग बहुत खास है। कयास लगाए जा रहे है कि इस दौरान भारत और चीन के मध्य व्यापार को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा होगी। इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि इस दौरान शी जिनफिंग कश्मीर मुद्दा भी अवश्य भारतीय प्रधानमंत्री के सामने उठाएंगे। हालांकि दोनों नेता अगले 48 घंटों में तीन दौर की बातचीत करेंगे। वैसे इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि दोनों नेताओं की इस मुलाकात पर कश्मीर मसले का साया पड़ चुका है। ऐसे में माना जा रहा है कि मुलाकातों में कश्‍मीर मसले को लेकर उपजे दोनों देशों के हालिया तनाव पर भी बातचीत हो सकती है। हालांकि चीनी राजदूत सुन वीदोंग ने स्‍पष्‍ट किया है कि दोनों नेता अंतरराष्ट्रीय हालात के साथ साथ चीन और भारत के बीच संबंधों से संबंधित समग्र, दीर्घकालिक एवं रणनीतिक मुद्दों पर चर्चा करेंगे|

चीन इस बैठक को सकारात्मक रूप से देख रहा है। क्योंकि अमेरिका से ट्रेड वार के चलते चीन की अर्थव्यवस्था पर सुस्ती छाई पड़ी है। जिसके चलते चीन अपने उत्पाद को निर्यात करने के लिए नए विकल्प खोज रहा है। इसी के चलते चीन भारत का रुख कर सकता है। चीन भारत के साथ अपने व्यापारिक संबंध और अधिक मजबूत करने की कोशिश करेगा। वह अपना व्यापार घाटा कम करके मौके को भुनाना चाहता है। उसने भारत के लिए अपना बाजार खोला है और नियमों को भी उदार बनाया है। शायद ऐसी ही उम्‍मीद वह भारत से भी कर रहा है।

कुछ ऐसा रहेगा शी जिनपिंग का दो दिनो का कार्यक्रम :

चीनी राष्‍ट्रपति दोपहर 2.00 बजे चेन्नई एयर पोर्ट पर पहुंचेंगे और होटल जाएंगे।
शाम 5.00 बजे प्रधानमंत्री मोदी उनको तीन ऐतिहासिक स्थलों पर लेकर जाएंगे।
पीएम मोदी और चिनफ‍िंग शोर टेंपल जाएंगे और सांस्कृतिक कार्यक्रम देखेंगे।
शोर टेंपल लॉन में बैठकर ही पीएम मोदी और शी चिनफ‍िंग बातचीत करेंगे।                                                                                                                                                         पीएम मोदी शोर टेंपल परिसर में ही चीनी राष्ट्रपति के लिए डिनर आयोजित करेंगे।
शनिवार सुबह दोनों नेता फिशरमैंस कोव रिजॉर्ट में अकेले बातचीत करेंगे।
इसके बाद भारत और चीन के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत होगी।
द्वि‍पक्षीय वार्ता के बाद पीएम मोदी चीनी राष्ट्रपति के लिए लंच आयोजित करेंगे।
शनिवार को दोपहर 12.45 बजे चिनफिंग चेन्नई एयरपोर्ट के लिए रवाना होंगे।

खेती बाड़ी से जुड़ी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-:

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *