True Voice Of Rural India

History of 05th Nov- आज ही के दिन मिशन मंगल के लिए लांच हुआ था मंगलयान

1 min read
History of 05th Nov- आज ही के दिन मिशन मंगल के लिए लांच हुआ था मंगलयान

History of 05th Nov- आज ही के दिन मिशन मंगल के लिए लांच हुआ था मंगलयान

Sharing is caring!

आज नवंबर महिने का 5वां दिन है, यह साल का 308 वां दिन है। इस दिन से जुड़े इतिहास की बात करें तो कई ऐसी घटनाएं है जिनका अपना अलग महत्व है। यह घटनाएं ऐतिहासिक रूप से बहुत महत्व रखती हैं। अब जैसे कि बात साल 2013 की कर लेते हैं। इस साल का 5 नवंबर का दिन भारतीय स्पेश प्रोग्राम के लिहाज से बड़ा महत्वपूर्ण रहा था। इसी दिन को मिशन मॉम यानि की मार्स ऑर्बिटर मिशन को श्री हरि कोटा से लांच किया गया था। यह मिशन भारत का पहला मंगल मिशन था जो सफल रहा। बता दें कि चंद्रयान 1 के बाद मंगलयान1  इसरो का दूसरा सबसे बड़ा स्पेश प्रोग्राम था।

Kisan Bulletin 4th Nov- इन उर्वरकों से बढ़ेगी 30 प्रतिशत तक पैदावार

मंगल पर ऑर्बिटर भेजनेवाला भारत चौथा देश है

मिशन मंगल भारत के लिए पहला इंटरप्लेनेट मिशन था। इसकी कामयाबी के बाद भारतीय स्पेश एजेंसी इसरो दुनिया के चार स्पेस एजेंसियों की लिस्ट में शामिल हो गई। वहीं मार्स पर मंगलयान भेजकर भारत ऐसा करनेवाला पूरे एसिया का पहला देश बन गया। बता दें कि चीन ने भारत से पहले कोशिश की थी, लेकिन वह नाकाम रहा था। मंगलयान 24 सितंबर 2014 को मंगल ग्रह की कक्षा में पहुंचा और तक से अब तक वह मंगल का चक्कर लगा रहा है।

मंगल यान की कामयाबी के अलावा इसे बनाने में खर्च हुई राशि का जिक्र सबसे ज्यादा रहा। मंगलयान को तैयार करने में कुल 450 करोड़ रुपये खर्च हुए। आज तक इतने कम पैसे में किसी भी स्पेश एजेंसी ने कोई स्पेश मिशन को अंजाम नहीं दिया था। यह यान जहां बहुत कम रुपये में बना था वहीं इसकी खासियतें भी हैरान करने वाली थी। यह एक तरह से मेड इन इंडिया फॉर इंडिया प्रोडक्ट था। जिसे यहीं कि विकसित तकनीकें थी। इसका पेलोड नासा के मेवेन से कम कंप्लीकेटेड था।

मंगल यान की लॉचिंग के अलावा आज का दिन कई और भी ऐतिहासिक घटनाओं का गवाह रहा है।

— साल 1937 में एडोल्फ हिटलर ने गुप्त बैठक बुला कर जर्मन जनता के लिए ज्यादा जगह लेने की अपनी योजना का खुलासा किया था। इसे हौसबेच मेमोरेंडम के नाम जाना जाता है।

— साल 1895 में आटो मोबाइल के लिए जॉर्ज बी सेल्डम को अमेरिका का पहला पेटेंट आज ही के दिन मिला था। सेल्डम एक पेटेंट लॉयर होने के साथ ही एक इनवेंटर भी थी।

— इराक से भी इस दिन का इतिहास जुड़ा हुआ है। आज ही के दिन साल 2006 में इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को फांसी की सजा सुनाई गई। सद्दाम हुसैन 16 जुलाई 1979 से लेकर 9 अप्रैल 2003 तक इराक के राष्ट्रपति रहे।

— साल 2007 में चीन ने अपना चांद पर अपना पहला स्पेश यान चेंज 1 चंद्रमा की कक्षा में पहुंचा। इस मिशन का नाम चाइनीज मून गॉड के नाम पर रखा गया था।

— आज का दिन एक और वजह से खास है। इस दिन को महान स्वतंत्रता सेनानी चित्तरंजन दास का जन्म साल 1870 में हुआ था। उन्हें देशबंधु के नाम से भी जाना जाता था। वे बंगाल के सबसे बड़े नेताओं में से थे और उन्होंने ही स्वराज पार्टी की स्थापना की थी। चितरंजन दास को नेताजी सुभाषचंद्र बोस का मेंटर भी माना जाता है। गांधी जी द्वार चलाए गए असहयोग आंदोलन को लीड करने वाले नेताओं में चितरंजन दास का नाम सबसे आगे था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *