Grameen News

True Voice Of Rural India

History of 13th Sep- 1913 में पहली बार स्टील का आविष्कार हुआ

1 min read
History of 13th Sep

History of 13th Sep

Sharing is caring!

History of 13th Sep-

13 सितंबर का दिन इतिहास के लिहाज से ईसाई धर्म से जुड़ा है। इसी दिन नांत का प्रख्यात आदेश 1598 में जारी किया गया था। इसी दिन साल 1784 में पिट्स इंडिया विधेयक ब्रिटिश संसद में पेश हुआ, जिसके बाद ईस्ट इंडिया कंपनी पर ब्रिटेन की सरकार का पूर्ण नियंत्रण हो गया। इसी दिन पेरू और इक्वाडोर में वर्ष 1886 के भयावह भूकंप ने 25,000 लोंगो की जाने ले लीं।

चलिए अब विस्तार से हम आज के इतिहास से जुड़ी इन सभी घ्राटनाओं के बारे में आपको बताते हैं.

  1. जैसा की हम जानते हैं कि ईसाई धर्म में दो अलग धराएं हैं, एक को कैथोलिक कहते हैं और दूसरे को प्रोटेस्टेन्ट के नाम से जाना जाता है। दोनों के बीच सिद्धांतों को लेकर थोड़ी बहुत विभिन्नताएं हैं और इसी पर ईसाई धर्म का बहुत कुछ इतिहास अधारित है। 1526 ई. में पवित्र साम्राज्य की सभा की बैठक स्पीयर में हुई, इसमें सम्राट चार्ल्स पंचम ने कैथोलिक धर्म का प्रबल समर्थन करते हुए नए धर्मसुधार आंदोलन के विरूद्ध कई कठोर निर्देश पारित किए। जिसका विरोध सुधारवादी शासकों और समर्थकों ने जिन्हें प्रोटेस्टेंट कहा गया। 13 सितंबर 1598 में आखिरकार फ़्रांस के शासक हेनरी चतुर्थ ने नांत का प्रख्यात आदेश जारी किया, जिसके बाद इस प्रोटेस्टेन्ट ईसाईयों को पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता मिली।
  2. सन् 1773 के रेग्युलेटिंग एक्ट की कमियों को दूर करने और भरत में ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रशासन को अधिक सक्षम और जवाबदेह बनाने के लिये जाँच के कई दौर के बाद ब्रिटिश संसद ने 13 सितंबर 1784 को सबसे महत्पूर्ण कदम उठाते हुए पिट्स इंडिया एक्ट पारित किया। ब्रिटेन के तत्कालीन युवा प्रधानमंत्री विलियम पिट के नाम इस एक्ट का नाम रखा गया था। इसके जरिए एक  बोर्ड ऑफ़ कण्ट्रोल की स्थापना की गई, जिसके माध्यम से ब्रिटिश सरकार भारत में कंपनी के नागरिक, सैन्य और राजस्व सम्बन्धी कार्यों पर पूर्ण नियंत्रण रखती थी।
  3. पेरू और इक्वाडोर में 13 सितंबर 1886 में एक भयावह भूकंप के कारण भारी तबाही मची। इस भूकंप ने करीब 25,000 लोंगो ने अपनी जान गंवा दी। बताया जाता है कि भूकंप से कुल होने वाला नुकसान 300 मिलियन अमेरिकन डॉलर के करीब था।
  4. स्टेनलेस स्टील यानि वो धातु जिसमें जंग न लगे और मजबूत भी हो। आज कल स्टेनलेस स्टील का काफी क्रेज है। आपके किचेन की लगभग हर चीज इसी धातु की बनी होगी। आज लोहे जैसे धातु की तुलना में स्टेनलेस स्टील का ज्यादा उपयोग होने लेगा है, क्योंकि एक तो इसकी आयु लम्बी होती है और दूसरा इसके उपर जंग नही लगता। लोहे की तुलना में स्टील करीब 1000 गुना अधिक मजबूत हो सकता है। इसकी खोज भी आज के ही दिन यानि 13 सितंबर को साल 1913 में इंग्लैंड के हैरी ब्रेअर्ली ने सबसे पहले बंदूक के बैरल इस तरीके का एक धातु बनाया था।
  5. आज भरत की सरकार मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। लेकिन भारत में मैन्युफैक्चरिंग का काम बहुत पहले ही शुरू हो चुका था। इसकी गवाह भी 13 सितंबर की तारीख है। आज ही के दिन साल 1951 में पहली बार भारत में निर्मित विमान हिंदुस्तान ट्रेनर 2 ने आसमान में उड़ान भरी थी। यह एक दो सीट वाला प्राथमिक ट्रेनर है जिसे हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा डिज़ाइन और बनाया गया है। इसे 155 एचपी सिरस मेजर 3 पिस्टन इंजन द्वारा संचालित किया जाता था।
  6. 2004 में सितंबर की 13 तारीख को ही 28 वां ओलंपिक खेल का आयोजन एथेंस ग्रीस में हुआ था। इस ओलंपिक खेल में भार की ओर से 14 खेलों में लिए कुल 73 खिलाड़ियों ने भाग लिया था। जिसमें 48 पुरूष और 25 महिलाएं थीं। इस ओलंपिक में भारत को कोई खास कामयाबी नहीं मिली। भारत की ओर से केवल राज्यवर्धन सिंह राठौर ने शूटिंग में रजत पदक जीता था। इसके लिए उन्हें अर्जुन अवार्ड से भी सम्मनित किया गया था।

 

खेती-बाड़ी से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1/videos

History of 13th Sep को वीडियो रूप में देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *