True Voice Of Rural India

History of 07th Nov-आज ही के दिन सफल हुई थी रूस की ‘बोल्शेविक क्रांति’

1 min read
History of 07th Nov-आज ही के दिन सफल हुई थी रूस की 'बोल्शेविक क्रांति'

History of 07th Nov-आज ही के दिन सफल हुई थी रूस की 'बोल्शेविक क्रांति'

Sharing is caring!

आज 07 नवंबर का दिन है। इस साल का यह 311वां दिन है और हम बात आज के दिन से जुड़े इतिहास की करनेवाले हैं। ऐतिहासकि रूप से आज का दिन बड़ा ही महत्वपूर्ण हैं। यह दिन इतिहास की कई बड़ी घअनाओं को गवाह रहा है, जैसे कि रूस की बोल्शेविक क्रांति। साल 1917 में आज ही के दिन रूस में सफल बोल्शेविक क्रांति हुई और इसके बाद वहां के मोनार्क ‘जार’ का शासन खत्म हुआ और कम्यूनिस्ट पार्टी सत्ता में आई। रूस की सत्ता बोल्शेविक क्रांति के लीडर व्लादिमिर लेनिन के हाथ में चली गई।

History of 06th Nov-साउथ अफ्रिका में गांधी ने निकाला था ‘द ग्रेट मार्च’

बोल्शेविक क्रांति इसी नाम से क्यों जानते हैं?

बोल्शेविक क्रांति को बोल्शेविक क्रांति ही क्यों कहते हैं यह भी आपको बता देंते हैं, दरअसल रूस की कम्यनिस्ट पार्टी में दो पाड़ थी। एक मेनसेविक थे जिसे Alexander Bogdanov लीड करते थे तो वहीं दूसरा गुट था बोल्शेविक जो लेनिन की कही बात को मानता था। मेनसेविक शांति से क्रांति को अंजाम देना चाहते थे तो वहीं बोल्शेविक इसके लिए खूनी क्रांति करने तक को तैयार थे। 1917 में जो रूसी क्रांति हुई वह लेनिन के लोगों के विचारों की उपज थी। उसके शांति, ब्रेड और जमीन के वादे से जनता ने बोल्शेविकों को बडा सपोर्ट किया।

इस क्रांति के पिछे कई कारण थे, जैसे कि इस दौर में रूस को कई एशियाई देशों से हार का समाना करना पड़ा था। रूस का राजा जार जनहितैषी नहीं था, औद्योगीकरण से मजदूरों की संख्या बड़ रही थी एवं आमजन इससे खुश नहीं थे। राजा ने भलें ही प्रतिनिधित्व सभा की मांग को मानकर संसद ड्यूमा की स्थापना की थी लेकिन सत्ता छीन जाने के डर से उसने इसे दो बार भंग किया जिससे राजशाही और जनता में संघर्ष प्रारंभ हो गया। इन सब के बीच मार्क्सवादी आंदोलनों ने जनता को अपनी ओर आकर्षित किया, वहीं जनता के अंतर क्रांति की भावना जगाने का काम लेनिन के विचारों ने किया।

रूसी क्रांति के सफल होने के आलावा आज के दिन कई अन्य ऐतिहासिक घटनाएं भी हुई हैं।

— साल 1858 में आज ही के दिन अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने वाले महान क्रांतिकारी बिपिन चंद्र पाल का जन्म हुआ था। वे गरम दल के प्रमुख तीन नेताओं में से एक थे। गरम दल के तीन नेता थे ‘लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक और बिपिन चंद्र पाल। इन तीनों को ‘लाल, बाल और पाल के नाम से जाना जाता है।

— साल 1998 में जॉन ग्लेन नाम का अंतरिक्षयात्री सुरक्षित धरती पर वापस पहुंचा। इनके बारे में सबसे खास बात यह थी कि ये दुनिया का सबसे बुजर्ग अंतरिक्षयात्री था।

— साल 2003 में अमेरिका के राष्ट्रपति जार्ज बुश ने देश में गर्भपात पर रोक सम्बन्धी विधेयक पर हस्ताक्षर किए थे।

आज का दिन दो फिल्मी सितारों के लिए भी खास है कयों कि आज इन दोनों ही कलाकारों का जन्मदिन है। इनमें से एक है साउथ की फिल्मों के सुपरस्टार कमल हसन जिनका जन्म साल 1954 में हुआ था। कमल हसन साउथ के उन एक्टरों में से एक हैं जिनकी फिल्मों का इंतजार हिन्दी फिल्मों के दर्शक भी करते हैं। कमल हसन ने कई बालिवुड की फिल्मों में भी काम किया है जो हिट रही हैं। उन्हें 19 बार फिल्मफयर अवार्ड और तीन बार नेशनल फिल्म अवार्ड मिला है। एक एक्टर होने के साथ ही वे प्रोडयूशर, स्क्रिन राइटर, लिरिसिस्ट, और एक पॉलिटिशयन भी हैं।

कमल हसन के अलावा आज बाहुबली फिल्म की हिरोइन अनुष्का शेट्टी का भी जन्मदिन है। बाहुबली फिल्में में अपने देवसेना के किरदार के लिए दर्शकों की चहेती अनुष्का मुख्य रूप से साउथ फिल्मों की हिरोइन के तौर पर काम करती हैं। लेकिन उनके चाहनेवाले पूरे भारत में हैं। उनका जन्म साल 1981 में हुआ था। उन्हें तीन बार फिल्मफेयर अवार्ड से नवाजा जा चुका है। अनुष्का भारत की सबसे ज्यादा पैसा कमानेवाल एक्ट्रेसेस में से हैं इसी कारण से उन्हें ‘लेडी सुपरस्टार’ भी कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *