Tue. Jun 25th, 2019

Grameen News

True Voice Of Rural India

सिंगल पैरंट पुरुषों को भी मिल सकती है चाइल्ड केयर लीव

1 min read
सिंगल पैरंट

47872874 - father and child reading book in sofa

सिंगल पैरंट को काफी परेशानी होती हैं अपना बच्चा सम्भालने में फिर वो चाहे मां हो या पिता… जी हां… और छोटे बच्चे की देखभाल के लिए महिला कर्मचारियों को काफी छुट्टी मिलती हैं जिन्हें हम चाइल्ड केयर लीव यानी सीसीएल कहते हैं…लेकिन यह लीव पुरुषों को नही मिलती… लेकिन अब केंद्र सरकार के लिए काम कर रहे पुरुष कर्मियों को अब बड़ी राहत देने का ऐलान किया जा सकता है… ऐसे पुरुष कर्मी जो सिंगल पैरंट  हैं, अब उन्हें भी चाइल्ड केयर लीव यानी सीसीएल मिल सकती है… बता दें कि पूरी सर्विस के दौरान केंद्र कर्मचारी कुल 730 दिन की सीसीएल ले सकते है.. अबतक इसका नियन सिर्फ महिला कर्मचारियों के लिए था… महिला कर्मियों के लिए बने नियमों के मुताबिक, वे प्रति वर्ष 3 चरणों में बच्चों की देखभाल के लिए छुट्टियां ले सकती हैं… यह सुविधा सिर्फ 2 बच्चों के होने तक के लिए दी जाती है.. गैर शादीशुदा, विधुर या तलाकशुदा पुरुष को सिंगल पैरंट यानी सिंगल फादर  के अंतर्गत रखा गया है… ऐसे पुरुषों की संख्या भले ही कम हो, लेकिन यह कदम सोच में परिवर्तन दिखाता है.. इससे पहले तक महिलाओं को ही बच्चे की देख रेख करनेवाला समझा जाता रहा है…

सरकारी संस्थाओं को यह सुझाव कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग यानी DoPT ने दिया है.. ऑर्डर में कहा गया है, की ‘एक सरकारी महिला कर्मचारी और सिंगल मेल पैरंट को संबंधित अथॉरिटी से 730 दिन की छुट्टियां मिलनी चाहिए… यह सर्विस शुरुआती दो बच्चों की देखरेख, उनकी जरूरतों जैसे शिक्षा, बीमारी आदि की देखरेख के लिए होनी चाहिए।’

हालांकि निजी क्षेत्र में काम कर रही महिला कर्मचारियों को 26 हफ्ते की छुट्टी मिलती है। केंद्र सरकार के कार्मिक मंत्रालय के अनुसार महिला कर्मचारी और सिंगल पैरेंट पुरुष कर्मचारियों को 730 दिन की छुट्टी चाइल्ड केयर लीव के तहत मिलेगी। हालांकि यह छुट्टी केवल दो बच्चों के लिए मिलेगी।साथ ही बता दे की सिंगल फादर से जुड़े नियमों में बदलाव सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का हिस्सा हैं जिन्हें स्वीकारा जाना बाकी है… रिपोर्ट में कहा गया था कि अगर पुरुष कर्मी सिंगल पैरंट है तो बच्चे को संभालने का भार उसपर ही आता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.