नीरव मोदी के बाद अब कोठारी के ऊपर 5000 करोड़ रूपये के घोटाले का आरोप

हाल ही में हुए पंजाब नेशनल बैंक के घोटाले के बाद अब देश में एक और घोटाले सामने आया है। पीएनबी घोटाले के संदर्भ में हीरा कारोबारी नीरव मोदी का नाम आया था लेकिन इस घोटाले में भारतीय पैन कंपनी “रोटोमैक” के सीएमड़ी विक्रम कोठारी का नाम सामने आया है। कोठारी के ऊपर 5000 करोड़ रूपये से भी अधिक घोटाले आरोप है। कोठारी कानपुर स्थित अपने संतुष्टी बंगले में रहते हैं। सोमवार सुबह सीबीआई ने उनके संतुष्टी बंगले समेत कानपुर स्थित 3 अन्य जगहों पर छापा मारा और घंटो तक कोठारी से पूछताछ करने में जुटी रही।

मीड़िया में चल रही खबरों के मुताबिक कोठारी के घर पर सीबीआई की 21 घंटे से रेड़ जारी है और कोठारी की गिरफ्तारी भी हो सकती है। विक्रम कोठारी और उनके 3 डायरेक्टर ने सात बैंको से करीब 2919 करोड़ रूपये का लोन लिया। जो कोठारी अभी तक नहीं चुका पाए हैं। इस लोन कि ब्याज के साथ किमत करीब 3695 करोड़ रूपये बनती है। इसके अलावा कोठारी पर और कर्ज का अनुमान भी हो सकता है।

सूत्रों के अनुसार पता लगा कि कोठारी ने भी भीरत छोड़ दिया है लेकिन कोठारी को ऐसी खबर पता लगने के बाद इस बात की पुष्टी की वह देश में ही हैं लेकिन काम के सिलसिले में बाहर जाना होता रहता है। कोठारी ने कहा वह कानपुर के नीवासी हैं और कानपुर में ही रहेंगे हैं। बैंको का जल्द ही कर्जा भी चुक्ता कर देंगे और इसकी जांच भी चल रही है।

किस बैंको का कितना कर्ज

 बैंक ऑफ बड़ौदा: 456.53 करोड़ रुपए

 बैंक ऑफ इंडिया: 754.77 करोड़ रुपए

बैंक ऑफ महाराष्ट्र: 49.82 करोड़ रुपए

इलाहाबाद बैंक: 330.68 करोड़ रुपए

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स: 97.47 करोड़ रुपए

इंडियन ओवरसीज बैंक: 771.07 करोड़ रुपए

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया: 458.95 करोड़ रुपए

आखिर कौन हैं विक्रम कोठारी

जाने-माने दिवंगत उद्योगपति एमएम कोठारी “मनसुख लाल महादेव भाई कोठारी” का बेटा है विक्रम कोठारी । कानपुर के छोटे से गांव निराली में जन्में एमएम कोठारी के 8 भाई-बहनों थे। घर में सबसे बड़े भाई एमएम कोठारी ही थे। एमएम कोठारी ने अपने करियर को प्राइवेट नौकरी से शुरु किया और एक-एक करके एमएम कोठारी ने कई संस्थानों समेत स्कूल की शुरुआत की। इसके बाद पान पराग और रोटोमैक कंपनी की शुरू करी। उनके निधन के बाद एमएम कोठारी की विरासत को दो बेटे विक्रम और दीपक के बीच में बाँट दिया गया। विक्रम को रोटोमैक विरासत में मिली और दीपक ने पान पराग कंपनी को संभाला।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password