शिमला : ग्रामीण पंचायतीराज एवं कृषि राज्य मंत्री श्री पुरषोत्तम रुपाला ने RIEV मिशन का किया उद्धघाटन

भारत सरकार के ग्रामीण पंचायतीराज एवं कृषि राज्य मंत्री श्री पुरषोत्तम रुपाला ने एकीकृत ग्रामीण विकास संस्थान IIRD के रोजगार एवं ग्रामीण विकास के मूल विचार और ऐतिहासिक मिशन रीव RIEV का विधिवत रूप से अपने करकमलों से उद्धघाटन किया। हिमाचल के इतिहास में पहली बार इस प्रकार से रामपुर के हूरहराज के गांव शोली में आयोजित हो रहे रूरल कन्क्लेव का भी उद्घाटन भी किया।

इससे पूर्व मंत्री जी का IIRD में भव्य स्वागत किया गया और स्वयं संस्थान के प्रबन्ध निदेशक डॉ. एल ली शर्मा ने उनका पारंपरिक रूप से स्वागत किया। मंत्री जी ने कहा कि यह मिशन हिमाचल के लिए ही नही अपितु पूरे देश के लिए रोल मॉडल साबित होगा। उन्होनें कहा कि हिमाचल गांव में बसता है और गांव के लोगों को सीधा सरकार और सुविधाओं में जोड़ने का ऐतिहासिक कदम है IIRD का रीव मिशन।

आपको बता दें कि मिशन रीव के दूरगामी दृष्टिकोण एंव महत्व को इसी बात से समझा जा सकता है कि इसकी सफलता की कामना एंव ग्रामीण विकाम व रोज़गार के क्षेत्र में इसके क्रांतिकारी प्रभाव को फलीभूत करने का उद्देश्य लिए भारत सरकार के मंत्री इसके उद्घाटन के लिए विशेष रूप से शिमला के शनान में पधारें।

गौरतलब है कि IIRD द्वारा इस मिशन के सभी पहलुओं पर मंथन एंव प्रशिक्षण हेतु दूरदराज के गांव शोली का चयन कर ग्रामीण विकास की सार्थकता को गांव की मिट्टी में ही आयोजित करने का साहसिक कदम उठाया है। तीन दिन का चलने वाले इस कार्यक्रम में देश व विदेश से प्रशिक्षक एंव आगंतुक इस रूरल कन्कलेव में शामिल हो रहे है जो कि पूरे प्रदेश के लिए गौरवान्वित करने वाली बात है। रीव से संबन्धित समस्त पहलुओं पर गहन प्रशिक्षण एंव संदर्भ प्रमाणों के साथ इस कन्कलेव को आयोजित किया जा रहा है। ताकि पूरे प्रदेश में आमजन तक सुविधाओं एंव ग्राम विकास की नई ईबारत लिखी जा सके। साथ ही जनऔषधि केन्द्र का उद्घाटन भी किया गया। इस परियोजना पर पूरे देश की नज़र है और इसकी सफलता के बाद IIRD इसे पूरे देश में कमबद्ध सभी राज्यों में चलाने रे प्रति संकल्पबद्ध है। इस अवसर पर प्रदेश सरकार के अनेक गणमान्य बुद्धजीवी राजनीतिज्ञ प्रशासनिक अधिकारी, पत्रकार, एंव जनमानस उपस्थित थे.

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password