गणतंत्र दिवस विशेष : भारत का एक ऐसा गाँव जहां आज तक नहीं फहराया गया तिरंगा

देश को आजादी मिले 70 साल हो चुके हैं। लेकिन देश में एक ऐसा भी गांव है, जहां आज तक एक भी बार तिरंगा नहीं फहराया गया है। यहां ना तो गणतंत्र दिवस मनाया जाता है और ना ही स्वतंत्रता दिवस। क्योंकि हरियाणा में एक गांव ऐसा भी है जो अपने आप को आज भी गुलाम मानता है।

आपको बता दें कि अंग्रेजों ने रोहनात गांव में भी जलियांवाला बाग जैसा नरसंहार किया था। यहां के लोगों को 1857 के क्रांति में भाग लेने की खौफनाक सजा दी गई थी। गांव में रहने वाले ओमप्रकाश शर्मा बताते हैं कि अंग्रेजों ने तोप चलाकर गांव को तबाह कर दिया था। यही नहीं अपनी आबरू बचाने के लिए गांव की महिलाएं जिस कुएं में कूदी थीं और जिस बरगद के पेड़ पर गांव के नौजवानों को फांसी पर लटकाया गया था वो कुआं और बरगद का पेड़ आज भी गवाह के रूप में मौजूद हैं। उस वक़्त पूरे गांव को सिर्फ 8100 रुपए में नीलाम कर दिया गया था। वहीं नीलामी का दर्द ग्रामीण आज भी अपने आप में समेटे हुए है।

गांव के सरपंच प्रतिनिधि रविंद्र बूरा का कहना है कि नीलामी के कुछ सालों बाद ग्रामीणों ने मेहनत के दम पर आस-पास की जमीन खरीद ली। लेकिन आज सरकारी रिकॉर्ड में दिक्कत के कारण गांव का विकास कार्य भी प्रभावित हो रहा है। गुलामी की छाप से छुटकारा पाने के लिए यहां के लोगों ने सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाए। मगर अभी तक गाँव वालों को कुछ भी हासिल नहीं हुआ।

आजादी के 70 सालों में देश के हर हिस्से में गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस मनाए जाते रहे है लेकिन रोहनात में ऐसा कभी नहीं हुआ। मगर इस बार का गणतंत्र दिवस रोहनात के लिए खास रहेगा। दरअसल, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर यहां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे है जिसके बाद ग्रामीणों को उम्मीद है कि उन्हें सरकार गुलामी के दर्द से आजादी मिलेगी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password