एक किलो टमाटर खरीदने के लिए पांच किलो उड़द बेचने को मजबूर है अन्नदाता !

इंदौर में किसानों की हालत इस वक़्त बदतर हो चली है। इसके बाद भी उनकी सुनवाई तो दूर बल्कि उनको बुरी तरह से लूटा जा रहा है। दरअसल मंडी में उड़द की उपज को औने-पौने दाम पर खरीदने कीवजह से किसान सीताराम पटेल ने कीटनाशक पीकर जान देने की कोशिश की। क्योंकि कारोबारियों ने पटेल की उड़द के भाव केवल 1,200 रुपये प्रति क्विंटल लगाये, जबकि सरकार ने इस दलहन का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5,400 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है। पटेल ने इस उम्मीद में दलहनी फसलें बोयी थीं कि इनकी पैदावार से वो खूब पैसा कमाएंगे और कर्जे से मुक्त हो जाएंगे मगर तीन प्रमुख दलहनों की कीमतें औंधे मुंह गिरने के कारण किसानों को अब भारी नुकसान हुआ है और अब खेती उनके लिए घाटे का सौदा साबित हो रही है।

प्रदेश की थोक मंडियों में इन दिनों उड़द औसतन 15 रुपये प्रति किलोग्राम बिक रही है, जबकि खुदरा बाजार में टमाटर का दाम बढ़कर 70 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया है। यानी किसानों को एक किलो टमाटर खरीदने के लिए पांच किलो उड़द बेचनी पड़ रही है। ये स्थिति कृषि क्षेत्र के लिए त्रासदी की तरह है।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password