राजस्थान हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला : पहली बार ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल बनी जाखड़ी गांव की गंगा

आपने आजतक किन्नरों को शादी में नाचते गाते देखा होगा मगर अब जालोरजिले की जाखड़ी गांव की किन्नर गंगाकुमारी पुलिस कांस्टेबल बनेगी। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश से राजस्थान पुलिस विभाग में पुलिस कांस्टेबल के पद पर पहली बार किन्नर को नियुक्ति दी जाएगी।

आपको बता दें कि साल 2013 में 12 हजार पदों के लिए कांस्टेबल भर्ती परीक्षा हुई थी। परीक्षा में प्रदेश के सभी जिलों में 1.25 लाख अभ्यार्थियों ने हिस्सा लिया था। इसमें से पुलिस ने 11 हजार 400 अभ्यार्थियों का कांस्टेबल पद के लिए चयन कर लिया था। इसमें गंगाकुमारी का भी चयन हुआ था। सभी अभ्यार्थियों का मेडिकल कराया गया तो गंगा के किन्नर होने की पुष्टि हुई। ऐसे में नियुक्ति को लेकर पुलिस विभाग और गृह विभाग दोनों ही असमंजस में थे। मगर इस पर कोई भी फैसला नहीं ले पा रहा था। जिस वजह से तीन साल तक नौकरी ना मिलने के बाद आखिरकार गंगा कुमारी ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई। जिसके बाद हाईकोर्ट के जस्टिस दिनेश मेहता की अदालत ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया कि गंगा को पुलिस विभाग में छह सप्ताह के अंदर अंदर नियुक्ति दी जाए और साथ ही साल 2015 से ही नेशनल बेनिफिट देने के आदेश दिए।

वाकई में गंगाकुमारी ने संघर्ष करके अपने हक को प्राप्त कर समाज के सामने एक मिसाल पेश की है। उन्होंने ये भी साबित कर दिया कि अगर किन्नरों को भी समानता का हक़ दिया जाए तो किन्नर भी समाज में सबके बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल सकते हैं।

 

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password