Wed. Jul 17th, 2019

True Voice Of Rural India

Kisan bulletin 19th March 2019- आम,सागौन के पेड़ों से लाखों की कमाई

1 min read
Kisan bulletin 19th March 2019

Kisan bulletin 19th March 2019- आम,सागौन के पेड़ों से लाखों की कमाई

1.       दादरी जिले के गांव बास रानीला रहने वाले एक किसान धनपत सिंह ने करीब तीन महीने पहले कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली थी। जिसके बाद सरकार ने उसके परिवार की हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया था। लेकिन सरकार का ये आश्वासन केवल आश्वासन भर ही रह गया.. किसान परिवार की अनदेखी होने पर किसान संगठन बार बार सरकार को पत्र भेजकर परिवार की सहायता करने की मांग कर रहे हैं.. इसी के साथ किसान के परिजनों के साथ मिलकर ग्रामीणों और किसान संगठनों ने सरकार के खिलाफ अनिश्चितकाली धरना शुरू करते हुए चुनाव में भाजपा का बहिष्कार करने की धमकी दी हैं। इतना ही नहींकिसान के पूरे परिवार ने सरकार से इच्छा मृत्यु की भी मांग की हैं।

2.       किसानों से जुड़े विभिन्न मुद्दों को लेकर नाहन में किसानों ने प्रदर्शन किया और सरकार पर अनदेखी का आरोप लगाया। यह प्रदर्शन हिमाचल किसान सभा के बैनर तले किया गया। किसान सभा ने सीएम को डीसी के माध्यम से 15 सूत्रीय मांगपत्र भी भेजा। वहींकिसान नेताओं ने पार्टियों को किसानों से जुड़े मुद्दे अपने घोषणा पत्र में शामिल करने की भी अपील की है।

3.       प्रीमियम कटने के बाद भी साल 2017 का बीमा क्लेम नहीं मिलने पर भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों ने इलाहाबाद बैंक के समक्ष धरना दिया। किसानों ने कहा कि उनका प्रीमियम लेने के बाद भी उनको फसल खराब होने पर बीमा क्लेम नहीं दिया गयाजो कि उनके साथ सरासर अन्याय है। किसानों ने कहा कि जब तक क्लेम के पैसे उनके खाते में नहीं आ जाएंगेवे धरना जारी रखेंगे।

4.       उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में चीनी मिल गेट पर गन्ना लेकर आने वाले किसानों ने सेंटर के वाहनों की पहले तौल किए जाने पर जमकर हंगामा काटा। सीसीओ और जीएम का घेराव कर नारेबाजी की। इससे वहां अफरा-तफरी का माहौल हो गया। काफी समझाने के बाद किसान शांत हुए। बताया जा रहा है कि सीसीओ के साथ किसानों की तीखी नोकझोंक हुई। इससे मिल परिसर में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। सैकड़ों की संख्या में किसान एकत्रित हो गए। जीएम ने 2 ट्राली गेट और एक ट्राला सेंटर का तोलने का आश्वासन दिया इसके बाद किसान शांत हुए।

5.       इंदिरा सागर परियोजना की नहरों के निर्माण के लिए किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इंदिरा सागर परियोजना के भू-अर्जन अधिकारी ने शहर से लगे काेयड़िया खोदरा हलका नंबर 4 में नहर बनाने के लिए अवॉर्ड पारित किया था। बावजूद अब तक 50 से ज्यादा किसानों को मुआवजा राशि का भुगतान नहीं हुआ है। इसको लेकर सोमवार को किसान पाटी नाका पर एकत्र हुए। आचार संहिता के कारण चर्चा कर वे लौट गए। किसानों ने बताया चुनाव के बाद अफसरों को आवेदन देंगे। किसानों ने बताया भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई पूरी नहीं होने से गर्मी सीजन में कपास की बोवनी व सिंचाई में परेशानी होगी।

6.       गुलाना तहसील के अंतर्गत गांव बोलाई के किसान इसहाक खां मंसूर ने 10 साल पहले अपनी 7 बीघा जमीन पर 150 सौगान और 100 आम के पौध लगाए थे.. जो अब हर भरे पेड़ बन चुके हैं… साथ ही किसान ने अपनी जमीन पर गेहूंचनामसूरआलूप्याजलहसुन व धनिया के साथ अन्य फसलों से प्रतिवर्ष 2 लाख से अधिक की कमाई ले रहे हैं। आम के पेड़ों से किसान को 1 लाख रूपये की कमाई हो रही है। किसान इस तरह से अपने खेतों में अलग-अलग तरह के प्रयास करके प्रतिवर्ष 3 लाख से ज्यादा की कमाई कर रहा हैं

 

Grameen News (The Indianness) के खबरों को Video रूप मे देखने के लिए ग्रामीण न्यूज़ के YouTube Channel को Subscribe करना ना भूले  ::

https://www.youtube.com/channel/UCPoP0VzRh0g50ZqDMGqv7OQ

Kisan और खेती से जुड़ी हर खबर देखने के लिए Green TV India को Subscribe करना ना भूले ::

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Green TV India की Website Visit करें :: http://www.greentvindia.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *