Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 9th Sep- किसानों को मिलेगी मुफ्त बिजली

1 min read
Kisan Bulletin 9th Sep

Kisan Bulletin 9th Sep

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 9th Sep-

  1. हाल ही में आई कुछ खबरों की मानें तो जल्द ही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार छोटे किसानों की कर्जमाफी योजना को बंद करने का विचार बना रही है। दरअसल, राज्य की योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद पहली कैबिनेट बैठक में किसानों की कर्जमाफी के वादे को पूरा करने ऐलान किया था। जिसके चलते अभी तक इस योजना के तहत किसानों का एक लाख रूपये तक का कर्ज माफ किया गया है। लेकिन अब राज्य सरकार इस योजना को बंद करने की तैयारी कर रही है। हाल ही में, राज्य के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि, हमने इस योजना को ढाई साल सफलतापूर्वक चलाया है। और करीब 43 लाख किसानों का लगभग 25 हजार करोड़ रूपये का कर्ज भी माफ किया गया है। तो वहीं अभी करीब 5 लाख किसानों के आवेदन पेंडिग पड़े हुए हैं। जिन्हें जल्द ही पूरा किया जाएगा। कृषि मंत्री ने कहा कि, हमने इस योजना को सफलतापूर्वक पूरा किया है, जिसके चलते अब इसे बंद कर देना ही बेहतर है, इसके आगे भी किसानों के लिए कई योजनाओं को लाने की तैयारी की जा रही है। इसी के साथ, ही जिलाधिकारियों औऱ बैंकों को निर्देश दिए गए हैं, कि वो अंतिम तौर पर ये सुनिश्चित कर लें कि, कोई भी पात्र छूटा तो नहीं है। आपको बता दें कि, मुख्य सचिव ने 15 दिनों के अंदर जल्द से जल्द बचे हुए लाभार्थियों का कर्ज माफ करने के निर्देश दिए हैं। ताकि, कोई भी पात्र किसान योजना के लाभ से वंचित ना रह जाए।
  2. अब जल्द ही दिल्ली के किसान खेतों में फसलों के साथ, बिजली का उत्पादन भी कर सकेंगे। दरअसल, आपको बता दें कि, मुख्यमंत्री किसान आय योजना के तहत किसानों ने अपनी करीब 150एकड़ जमीन पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने की सहमति दी है। जिसके चलते अब ऊर्जा विभाग जल्द ही सौर ऊर् पैनल लगाने के लिए निविदा जारी करने की तैयारी में है। इससे किसानों को सालाना खेतों पर किराए के अलावा मुफ्त बिजली भी मिलेगी। इसके अलावा आपको बता दें कि, दिल्ली सरकार ने पिछले साल जुलाई में मुख्यमंत्री किसान आय सौर ऊर्जा योजना की घोषणा की थी। जिसके तहत किसानों को सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए अपने खेत देने होंगे, इस योजना के तहत सौर ऊर्जा संयंत्र निजी कंपनियां लगाएगी। जिसके चलते कंपनी को प्रतिवर्ष एक लाख रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से किराया किसानों को देना होगा। औरर हर साल इस किराए में 6 फीसदी का इजाफा होगा। हालांकि, संयंत्र के निर्माण होने तक यह किराया 50 हजार रुपये प्रति एकड़ सालाना होगा। जानकारी के अनुसार, अब अलग-अलग किसानों ने अपनी भूमि पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगवाने के लिए सहमति दे दी हैं। और अभी तक करीब 150 एकड़ जमीन पर सहमति बन चुकी है। आपको बता दें कि, सौर ऊर्जा पैनल खेत की जमीन से 3.5 मीटर ऊपर लगाया जाएगा, जिससे किसान उसपर आसानी से खेती भी कर सकेंगे।
  3. तेलंगाना के पहले मेगा फूड पार्क बीते दिन केंद्रीय मंत्री हरसिमरक कौर बादल ने उद्घाटन किया. आपको बता दें की इसकी लागत 109 करोड़ रुपये है. जिसमें 50,000 लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलने के अवसर मिलने का अनुमान है. वहीं इससे एक लाख किसानों  को फायदा होने वाला है, गौरतलब है कि, तेलंगाना के निजामाबाद जिले के नंदीपेट मंडल के लक्कमपल्ली गांव में बना ये मेगा फूड पार्क 78 एकड़ जमीन पर बना है जिसमें अब तक लगभग 108.95 करोड़ लागत आई है. वहीं बादल की मानें तो उन्होंने कहा कि पार्क में 22 खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना के साथ साथ लगभग 250 करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश सृजित होगा. वहीं इसके अलावा लगभग 14,000 करोड़ रुपये का कारोबार भी इससे सृजित होगा. इसके अलावा उन्होंने कहा कि, मंत्रालय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को बढ़ावा देने पर जोर दे रहा है ताकि किसानों की आय बढ़ाने के अलावा कृषि क्षेत्रों में तेजी लाई जा सके और सरकार द्वारा चलाई जा रही मेक इन इंडिया पहल में ये किसान अपना योगदान दे सकें. आपको बता दें की मेगा फूड पार्क योजना के तहत, केंद्र सरकार 50 करोड़ रुपये तक की वित्तीय सहायता केंद्र सरकार प्रदान करती है. वहीं इस मेगा फूड पार्क के बनने के बाद से निजामाबाद जिले के अलावा आसपास के जिले निर्मल, जगतियाल, राजन्ना सिरकिला और कामारेड्डी के साथ साथ महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले के किसानों को भी फायदा होने की उम्मीद है. गौरतलब है कि,  यूपीए सरकार ने वर्ष 2008-2009 में देशभर में 42 मेगा फूड पार्क शुरू करने की घोषणा की थी. जिसमें से 17 मेगा फूड पार्को में काम चालू हो गया है जबकि चार मेगा फूड पार्क पूरी तरह से तैयार हो चुके हैं. जो बन कर पूरी तरह तैयार हो चुके हैं उनमें एक फूड पार्क उत्तराखंड में पंतजलि फूड एवं हर्बल पार्क प्राइवेट लिमिटेड है, वहीं दूसरा पार्क मध्य प्रदेश में इंडस मेगा फूड पार्क प्रा. लिमिटेड है. जबकि इसके अलावा एक कर्नाटक में और एक आंध्रप्रदेश में है
  4. 10 सितंबर से बाजार हस्ताक्षेप योजना के तहत नेफेड जम्मू-कश्मीर के किसानों से सेब की खरीद शुरू करने जा रही है दरअसल, आपको बता दें कि, दिल्ली में इस समय सेब की दैनिक आवक हिमाचल प्रदेश से ज्यादा है। जबकि, जम्मू-कश्मीर से आवक सितंबर के आखिर तक बढ़ाने की कोशिशे जारी है।
  5. उत्तर प्रदेश के ललितपुर के रहने वाले एक किसान की बीते रविवार को सदमें से मौत हो गई दरअसल, आपको बता दें कि, जब रविवार को किसान अपने खेत पर गया तो बारिश और ओलावृष्टि के चलते उसकी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी थी, जिसे देखकर उसकी सदमे से मौत हो गयी।

Kisan Bulletin 9th Sep को वीडियो रूप में देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

खेती-बाड़ी और किसानों से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए नीचे दिए लिंक को सब्सक्राइब करें-

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *