Tue. Jun 25th, 2019

Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan bulletin 11th June 2019- आम और केले की खेती से फायदे में किसान

1 min read
Kisan bulletin 11th June 2019

Kisan bulletin 11th June 2019-

झारखंड सरकार प्रदेश के 30 हजार से ज्यादा किसानों को इस साल स्मार्ट फोन योजना के तहत 2,000 रूपये की राशि देने वाली है.. दरअसल, जिन किसानों ने राष्ट्रीय कृषि बाजार में अपना रजिस्ट्रेशन कराया हैं उन्हें इसका फायदा मिलेगा.. हालांकि, विभाग ने बताया कि, इस योजना में उन किसानों को शामिल नहीं किया जाएगा, जिन्हें पिछले साल इस योजना का लाभ मिल चुका है। कृषि निदेशक रमेश घोलप की जानकारी के अनुसार, इस योजना को लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है… औऱ इसी के चलते हर दिन नए किसानों का इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है… आपको बता दें कि, ये योजना किसानों में डिजिटल इंडिया के महत्व को बढ़ाने के उद्देश्य से लागू की गई है…  जिससे किसान आसानी से इंटरनेट सेवा से जुड़कर अपनी समस्या का समाधान कर सकेंगे। इस योजना के जरिए लगभग 37 लाख किसानों को लाभ मिलेगा। इतना ही नहीं, इ-नैम से जुड़ने के बाद किसानों को ऑनलाइन ही खेती से जुड़ी हर जानकारी और उन्हें बेचने की जगह मिल पाएगी। और साथ ही, किसानों की फसल का सही दाम भी इन्हें मिल सकेगा… किसान को डिजिटल इंडिया से जोड़ने के साथ-साथ उन्हें सीखाने की भी कोशिश की जा रही है। इतना ही नहीं, कृषि निदेशक ने बताया कि मोबाइल की कीमत अगर ज्यादा रहती है तो किसानों को अपना पैसा मिलाकर लेना होगा। हालांकि, हम आपको बता दें कि, बाजार में कई कंपनियों के ऐसे मोबाइल सेट है जो 2000 रुपए तक आसानी से मिल जाते हैं..

इस वक्त देश के कई हिस्से सूखे की मार झेलने पर मजबूर हो चुके हैं.. पानी की समस्या इतनी ज्यादा बढ़ चुकी हैं कि, लोगों को पीने के पानी के लिए भी तरसना पड़ रहा है.. ऐसे हालातों में माकपा यानि की मार्कस्वादी कम्यूनिस्ट पार्टी ने देश के इन हिस्सों में सूखे से निपटने के लिए देशव्यापी आंदोलन करने का ऐलान किया है.. जिससे सरकार पर राहत कार्यों के लिए दबाव बनाया जा सकेगा.. आपको बता दें कि, माकपा की केन्द्रीय समिति ने शनिवार को इस पर प्रस्ताव पारित कर दिया था। इसी के साथ पार्टी ने सभी प्रदेश इकाईयों से सूखा प्रभावित इलाकों में किसान संगठनों को एकजुट कर जनआंदोलन करने की बात कही है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि पिछले 65 सालों में इस बार मॉनसून सबसे डरावने हालात पैदा कर रहा है। तो वहीं केन्द्रीय समिति ने प्रस्ताव में कहा कि गुजरात, बिहार, कर्नाटक, झारखंड, और आंध्र प्रदेश सहित तमाम अन्य राज्यों में जलसंकट भी गहरा गया है। इसकी वजह से केन्द्र सरकार को इन राज्यों में सूखे से निपटने के लिये जरूरी उपाय और कानून जारी करने पड़ेंगे। इतना ही नहीं, माकपा ने केंद्र सरकार पर सूखा प्रभावित राज्यों में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है… दोस्तो जाहिर है कि, लोकसभा चुनाव के परिणाम की राज्यवार समीक्षा के लिए सात से नौ जून तक माकपा की केन्द्रीय समिति की बैठक आयोजित की गयी थी। और समिति की बैठक के दूसरे दिन यानि की शनिवार को देश में सूखे की स्थिति पर चर्चा करते हुये इस प्रस्ताव पारित किया गया….

जहां हमारे समाज में एक महिला का उसके पति के मौत के बाद घर से बाहर निकलना भी मुश्किलों भरा हो जाता है, वहीं झारखंड के पश्चिम सिंहभूमि जिले के मनोहरपुर ब्लॉक के सिमरता गाँव की रहने वाली सुभाषिनी महता आज सभी के लिए मिसाल बन रही हैं. आपको बता दें कि कुछ समय पहले अपने पति को खोने वाली सुभाषिनी आज अपनी खेती के साथ-साथ दूसरे के लिए कृषक मित्र बनकर दूसरों को खेती से मुनाफा कमाना सिखा रही हैं. सुभाषिनी पहले से ही सब्जी की खेती करती थी, लेकिन पति के गुजरने के बाद अकेले खेती और परिवार संभालना मुश्किलों भरा हो गया था, जिसके बाद साल 2014 में उन्होंने कस्तूरबा स्वयं सहायता समूह से जुड़ कर इसके माध्यम से आजीविका कृषक मित्र का काम शुरू किया, जिसमें उन्होंने पौधे लगाने से लेकर अलग-अलग किस्म की खाद बनाना सीखा. यही वजह है कि, वो आज खुद खाद बनाकर खेतों में छिड़काव करती हैं. इसके साथ ही वो बताती हैं कि, जो दुकान से खरीदकर खेतों में डालते थे, उससे खेत की मिट्टी कड़ी हो जाती थी और जमीन के बंजर होने का डर लगा रहता था. अब प्रशिक्षण की मदद से मैं ऑर्गनिक खाद बनाकर खेतों में डालती हूं. जिससे मेरी फसलें पहले से बेहतर हो रही हैं और मेरी खेती का स्तर काफ़ी अच्छा हो गया है. यही वजह है कि मुझे मेरी खेती में अच्छा मुनाफा मिलने लगा है. आपको बता दें कि, सुभाषिनी पहले के समय में सीज़न के हिसाब से खेती करती थीं, लेकिन अब अकेले होने के कारण वो अपने एक एकड़ की खेत पर केले की खेती करती हैं, जिसमें कुल 500 केले के पेड़ हैं और बीच बीच में आम के पौधे लगाए हैं. इसके अलावा उन्होंने अपने और खेतों में तरबूज़, खीरा, करेला और लौकी की खेती कर रखी है. जिसके चलते उन्हें अपनी खेती से आए दिन मुनाफा हो रहा है.

 

Grameen News के खबरों को Video रूप मे देखने के लिए ग्रामीण न्यूज़ के YouTube Channel को Subscribe करना ना भूले  ::

https://www.youtube.com/channel/UCPoP0VzRh0g50ZqDMGqv7OQ

Kisan और खेती से जुड़ी हर खबर देखने के लिए Green TV India को Subscribe करना ना भूले ::

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Green TV India की Website Visit करें :: http://www.greentvindia.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.