Grameen News

True Voice Of Rural India

Kisan Bulletin 10th August- शुरू हुई देश की सबसे बड़ी स्कीम

1 min read
Kisan Bulletin 10th August

Kisan Bulletin 10th August 2019

Sharing is caring!

Kisan Bulletin 10th August-

  1. देश में किसानों के सामने इस वक्त सबसे बड़ी मुश्किल है अन्ना मवेशियों से अपनी फसलों का बचाना। और ऐसे में किसानों की इस मुश्किल को आसान करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार लगातार कोशिशें करने में जुटी हुई है। आपको बता दें कि, हाल ही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में ‘माननीय मुख्यमंत्री निराश्रित/बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना’ को मंजूरी दे दी गयी है। इस योजना के तहत पहले चरण में पालन—पोषण के इच्छुक लोगों को एक लाख गोवंशीय पशुओं को दिया जाएगा। और उन्हें रोजाना 30 रुपये प्रति पशु के हिसाब से भुगतान किया जाएगा। इस योजना के तहत 109.50 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। आपको बता दें कि, जहां एक तरफ फसल बचाने के लिए किसानों की रातें खेतों में बीत रहीं हैं, तो वहीं सड़क पर वाहन चालकों के लिए ये पशु समस्या बने हुए हैं। कई जगहों पर तो किसानों ने सरकार के खिलाफ इस समस्या को लेकर नारेबाजी भी की जिसके बाद योगी आदित्यनाथ की सरकार ने राज्य में ब्लॉक और न्याय पंचायत स्तर पर गोवंश आश्रय खोलने का फैसला किया। लेकिन कुछ ही गौशालाओं में इनकी हालत ठीक देखने को मिली। जिसके बाद यूपी सरकार ने अब बेसहारा पशुओं की देख-रेख करने के लिए प्रति दिन के हिसाब से 30 रुपए देने की योजना बनाई।
  2. जहां एक तरफ देश में प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना की शुरुवात बीते दिन से मोदी सरकार ने कर दी, वहीं दूसरी तरफ बीजेपी शासित राज्य झारखंड आज किसानों के लिए सबसे बड़ी स्कीम शुरू करने जा रहा है. आपको बता दें कि, इस स्कीम के तरह अब किसानों को सालाना 25 हजार रुपये दिए जाएगें. जिन किसानों के पार पांच एकड़ तक की खेती है. ये रकम सालाना उन किसानों को मिलेगा. वहीं ये योजना पीएम-किसान सम्मान निधि योजना से अलग होगी. गौरतलब है कि, अभी किसानों को केंद्र की तरफ से 6 हजार रुपए सालाना तीन किस्तों में दिए जा रहे हैं. जिसके बाद अब झारखंड में किसानों को सालाना 31 हजार रुपए दिए जाएंगे. जोकि सरकारी सहायता से सीधे हर किसान के बैंक अकाउंड में आएगें. आपको बता दें कि किसानों को अभी तक इतनी बड़ी नगद सहायता कोई भी सरकार नहीं दे सकी है. झारखंड की इस योजना का नाम मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना रखा गया है, जिसकी शुरुआत आज रांची में स्थित हरमू मैदान में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू करेंगे. वहीं केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों की मानें तो झारखंड में प्रति किसान औसत मासिक आय सिर्फ 4721 रुपये है, जोकि राष्ट्रीय औसत यानि की 6426 से काफी कम है. यही वजह है की कृषि को बेहतर करने और किसानों को सशक्त बनाने के लिए राज्य सरकार इतनी बड़ी स्कीम लेकर आई है.
  3. हरियाणा में पिछले काफी दिनों से धरने पर बैठे किसान अब रेलवे ट्रैक पर पहुंचने की तैयारी कर रहे हैं, आपको बता दें कि, हरियाणा स्वाभिमान आन्दोलन के बैनर तले किसान अपनी अलग-अलग मांगो को लेकर 14 अगस्त को रेल रोकने वाले हैं. आन्दोलन का केन्द्र बहादुरगढ़ का मांडोठी गांव बनाया गया है बीते शुक्रवार से मांडोठी गांव में हरियाणा स्वाभिमान आन्दोलन के अध्यक्ष रमेश दलाल की अगुवाई में अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया जा चुका है। रमेश दलाल का कहना है कि 14 अगस्त से पहले अगर सरकार ने किसानों की मांग नही मानी तो किसान पंजाब जाने वाली सभी रेलों को रोक देंगे, इतना ही नहीं, प्रदेश में तीन जगहों पर रेल रोकने की प्लानिंग की गई है. जिनमें दादरी, जुलाना और बहादुरगढ़ शामिल है, इन जगहों से पंजाब की ओर जाने वाली ट्रेनों को किसान रोकने वाले हैं. दरअसल आपको बता दें कि, पिछले काफी महीनों से प्रदेश के कई किसान एनएच 152 डी के लिए अधिग्रहित की गई उनकी जमीन की मुआवजा राशि बढ़ाने को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं, किसानों की मांगे है कि, उन्हे भूमि अधिग्रहण कानून के तहत पूरा मुआवजा दिया जाये, इसी के साथ बहादुरगढ़ क्षेत्र को आर जोन घोषित किया जाये, एसवाईएल का निर्माण हो, झज्जर बहादुरगढ़ सड़क पर केएमपी का कट खोला जाये औऱ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी बढ़ाया जाये, किसान अपनी इन सभी मांगो को लेकर आने वाली 14 अगस्त को रेल रोकने वाले है।
  4. दो दिन से लगातार हो रही बारिश से बिहार की काव नदी उफान पर है । नदी मे जरूरत से ज्यादा पानी हो जाने से क्षेत्र के दो दर्जन गांव की हजारो एकड खेत मे रोपे गए धान के पौधे पानी मे डूबकर बर्बाद होने लगे हैं। जिससे किसान धान की फसल को लेकर काफी चिंतित है।
  5. हरियाणा के रोहतक जिले के खोल क्षेत्र के तीन गांवों के 175 किसानों से करीब तीन करोड़ रुपये की सरसों और गेहूं खरीदने के बाद व्यापारी ने भुगतान नहीं किया। और अब व्यापारी किसानों के तीन करोड़ रूपये लेकर फरार हो चुका है जिसके चलते किसान काफी परेशान हैं हालांकि, पुलिस ने व्यापारी की तलाश शुरू कर दी है।
  6. हरियाणा के बहादुरगढ़ जिले के गांव छुड़ानी में करीब 500 एकड़ धान की फसल पानी में डूब गई है। सिंचाई विभाग ने गांव की सीमा पर मातन माइनर को खुला छोड़ रखा है। जिसकी वजह से करीब 37 सालों से किसान मातन माइनर के चलते हर साल बाढ़ का दंश को झेल रहा है

 

 

Kisan और खेती से जुड़ी हर खबर देखने के लिए Green TV India को Subscribe करना ना भूले ::

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Green TV India की Website Visit करें :: http://www.greentvindia.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *