Grameen News

True Voice Of Rural India

22 अगस्त किसान एक्सप्रेस- छोटे कर्जदारों को मिलेगी सरकार की कर्जमाफी

1 min read
22 अगस्त किसान एक्सप्रेस

Sharing is caring!

22 अगस्त किसान एक्सप्रेस-

  1. देश के प्रधानमंत्री मोदी के प्लास्टिक मुक्त अभियान को सफल बनाने के लिए कुछ वक्त पहले केंद्रीय पशुपालन,  डेयरी और मत्स्यपालन मंत्रालय ने दूध की सप्लाई पॉलीथिन पैक की जगह बोतल से करने की योजना तैयार की थी लेकिन हाल ही में बीते बुधवार को पशुपालन एवं डेयरी विभाग के सचिव की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें उस योजना पर सहमति नहीं बन पाई.. दरअसल अगर दूध को पॉलीथिन पैक की जगह बोतल में सप्लाई किया जाता है तो इससे दूध की कीमत में करीब 5 रूपये प्रति लीटर के हिसाब से बढ़ोत्तरी करनी पड़ेगी.. और महंगाई के इस दौर में ऐसा करने पर जोर नहीं डाला जा सकता है.. आपको बता दें कि, इस बैठक में राज्य सहकारी डेयरी फेडरेशन,  निजी डेयरियों के सीईओ, प्रबंध निदेशक, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्कूल शिक्षा और साक्षरता, वाणिज्य और उद्योग, राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड और APEDA के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। हालांकि, इस दौरान केंद्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन सचिव अतुल चतुर्वेदी ने दूध कंपनियों से आग्रह किया गया है कि, वो दो अक्तूबर तक मुंबई-दिल्ली के साथ ही मेट्रोपोलिटन शहरों में दूध आपूर्ति में पॉलिथीन का इस्तेमाल आधा करें.. इतना ही नहीं, पॉलिथीन के इस्तेमाल को घटाने के लिए दूध कंपनियों से अगले 15 दिन में एक्शन प्लान भी मांगा गया है. इसके अलावा ग्राहकों लसे अनुरोध करने को भी कहा गया है कि, अगर वो दूध की खाली थैली दुकानदार को वापस करेंगे तो ग्राहक को एक रुपए तक की छूट दी जाएगी. और फिर लौटाई गई इन थैलियों का इस्तेमाल सड़क बनाने में किया जाएगा. इससे पॉलिथीन का इस्तेमाल कम होगा हालांकि, फिलहाल थैली लौटाने पर छूट कब से मिलेगी, इसका फैसला 15 दिन बाद दूध कंपनियों के साथ होने वाली बैठक में किया जाएगा।
  2. जल्द ही देश की मोदी सरकार छोटे कर्जदारों की कर्जमाफी करके बड़ी राहत दे सकती है। आपको बता दें कि, इंसोल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड के तहत केंद्र सरकार ये काम कर सकती है। कुछ खबरों की मानें तो ये आईबीसी के फ्रेश स्टार्ट प्रावधानों के अंतर्गत किया जा सकता है। हालांकि, अभी इसको लेकर योजना तैयार की जा रही है। हाल ही में, कॉरपोरेट मामलों के सचिव इंजेती श्रीनिवास ने बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग यानी ईडब्ल्यूएस से आने वाले छोटे कर्जदारों की कर्जमाफी के लिए कैटेगरी तय करने को लेकर सरकार अभी माइक्रोफाइनेंस इंडस्ट्री से बात कर रही है… इतना ही नहीं, इस कैटेगरी के तहत सबसे ज्यादा कर्ज तले दबे कर्जदारो को ही इसका फायदा मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। इसी के साथ उन्होंने बताया कि, देशभर में ये कर्जमाफी 10,000 करोड़ रूपये से ज्यादा की नहीं होगी… इसके लिए कई प्रावधान भी किए गए हैं, जिनके तहत कर्जदारों की वार्षिक आय 60,000 रूपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए, तो वहीं लाभार्थियों के पास कुल मिलाकर 20,000 से ज्यादा की संपत्ति नहीं होनी चाहिए, और तो और जहां एक तरफ किसान पर 35,000 से ज्यादा का कर्ज नहीं होना चाहिए वहीं दूसरी तरफ उसके पास खुदका मकान भी नहीं होना चाहिए.. और अगर किसान इन सभी प्रावधानों पर खरा उतरता है तभी उसे इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
  3. बीते बुधवार को कृषि विज्ञान केंद्र ग्वालियर ने सब्जी उत्पादन तकनीक पर एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया आपको बता दें कि, इस एक दिवसीय प्रशिक्षण में डॉ पी के एक गुर्जर और डॉ रूपेंद्र कुमार सिंह ने भी भाग लिया..
  4. इसी के साथ खरीफ फसलों में पौध सरंक्षण विषय पर भी कृषि विज्ञान केंद्र ग्वालियर ने एक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया.. हालांकि, इस दौरान प्रशिक्षण में डॉ अरविंद कौर, डॉ पी डी सिंह, डॉ सत्य प्रकाश सिंह तोमर, डॉ एस के सिंह और डॉ सुरूचि सोनी ने अपनी-अपने विषयों पर लोगों को जानकारी दी..
  5. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में बिजनेस शुरू करने के लिए जब एक किसान को बैंक से लोन नहीं मिला तो उसने सोशल मीडिया पर किडनी बेचने का ऐलान कर दिया.. और इतना ही नहीं किसान इसी के साथ पूरे शहर में इसके पोस्टर भी लगवा दिए..
  6. बीते बुधवार को ICAR  और MSME ने मिलकर दिल्ली के भारतरत्ना सी सुब्रमण्यम ऑडिटोरियम के नास कॉंप्लेक्स में एक वर्कशॉप का आयोजना किया.. जिसका उद्देश्य कृषि और ग्रामीण उद्योगो का बढ़ावा देना था।
  7. कृषि विज्ञान केंद्र, बरकछा, मीरजापुर के अध्यक्ष और कार्यक्रम समन्वयक, प्रो. श्री राम सिंह की जानकारी के अनुसार, भारत सरकार द्वारा प्रायोजित और चुना गया मीरजापुर सीटी विकास खण्ड में जल शक्ति अभियान कार्यक्रम के अंतर्गत पानी बचाने को लेकर 18 से 21 तारीख तक जगह-जगह लोगों को जागरूक किया गया..
  8. तो वहीं दूसरी ओर बुधवार को ही कृषि विश्विद्यालय बीकानेर में श्री रक्षपाल सिंह,  उदयपुर में श्री नरेन्द्र सिंह राठौड़, कोटा में श्री दिनेष चन्द्र जोशी के साथ ही, जोधपुर में श्री बागड़ा राम चौधरी और जोबनेर में श्री जीत सिंह सन्धू को कृषि विश्विद्यालय का कुलपति नियुक्त किया गया है।

22 अगस्त किसान एक्सप्रेस को वीडियो रूप में देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *