दिल्ली के सरकारी स्कूलों में घटी छात्रों की संख्या

आप के तमाम दावों के बावजूद दिल्ली के सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या घट गयी है. आंकड़ो के मुताबिक पिछले 2 सालों में छात्रों की संख्या में तकरीबन 1 लाख छात्रों की संख्या में कमी दर्ज की गयी है.इसके साथ ही इन 2 सालों में दिल्ली सरकार शिक्षा बजट का 2 हजार करोंड रुपये भी खर्च नहीं कर पायी है. दिल्ली सरकार का दावा है कि उसके कार्यकाल में 5695 नए कमरे स्कूलों में बनवाए गए है लेकिन दूसरी तरफ छात्रों की घटती संख्या कुछ और ही तस्वीर पेश कर रही है. ये सभी बाते दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने कही है. अजय माकन ने  तीन मामलों में सरकार की घेराबंदी की

पहला- सरकारी स्कूलों में घटी छात्रों की संख्या

दूसरा- बारहवीं कक्षा  का परिणाम

तीसरा- शिक्षा का बजट

माकन ने बताया कि सरकारी वरिष्ट माध्यमिक विद्यालयों की वृध्दि दर 2012-13 में 5.40%, 2013-14 में 8.18% और 2014-15 में 2.89% और 2016-17 में 0.60%  रहीं जबकि दिल्ली की जनसंख्या वृध्दि दर 2.42 रही जबकि इस दौरान निजी स्कूलों में 1.42 लाख छात्र बढ़े.

इसके साथ ही माकन का कहना है कि केजरीवाल सरकार ने बारहवीं के रिजल्ट के बारे में भी झूठ फैलाया है, उनके मुताबिक 3 साल में 12वीं देने वाले छात्रों की संख्या में भी कमी आयी है

तीसरा हमला अजय माकन ने 3 साल में शिक्षा का बजट ना खर्च पाने पर की है जबकि सरकार बार बार शिक्षा का बजट बढाने की बात करती हैं

ये सभी बाते माकन ने पत्रकारों से ‘दिल्ली सरकार की शिक्षा की सच्चाई:एक खुलासा’ पर बातचीत में बताया.

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password