एक तरफ़ देश का किसान हड़ताल कर रहा है तो दूसरी तरफ़ उठ रही हैं उसकी अर्थियां…

एक तरफ़ देश का किसान हड़ताल कर रहा है तो दूसरी तरफ़ उठ रही हैं उसकी अर्थियां

एक तरफ़ देश का किसान हड़ताल कर रहा है तो दूसरी तरफ़ उठ रही हैं उसकी अर्थियां  बरनाला: एक जून से लेकर दस जून तक देश का किसान हड़ताल पर है। दरअसल सरकार की नीतियों के खिलाफ हज़ारों किसानों ने 10 दिन की हड़ताल रखी है। मगर दूसरी तरफ़ तो हालत इससे भी ज़्यादा बद्तर है क्योंकि देश के कुछ किसानों में तो अब इतनी भी ताकत नहीं बची की वो अपने हक़ के लिए लड़ सकें। या वो अपनी मांगे पूरी होने का इंतज़ार भर भी कर सकें। शायद वो किसान अब ज़िंदगी से थक चुके हैं इसलिए वो हड़ताल का रास्ता ना चुनकर मौत को गले लगा रहे हैं।

आपको बता दें कि ऐसे ही दो किसानों के खुदकुशी करने के मामले सामने आये है। बरनाला के गांव महमदपुर में रहने वाले कर्ज से परेशान एक किसान ने ज़हर खाकर अपनी जान दे दी। मृतक किसान की उम्र 45 साल थी और उनका नाम कुलवंत सिंह था। बताया जा रहा है कि कुलवंत सिंह पर लाखों रुपए बैंक का कर्ज था। जिसकी वजह से वो हमेशा परेशान रहते थे और इसी परेशानी के चलते उन्होने खुदकुशी जैसा खौफनाक कदम उठा लिया।

वहीं दूसरी तरफ मानसा के गांव माखा में भी एक किसान ने आर्थिक तंगी से परेशान होकर ट्रेन के नीचे आकर अपनी जान दे दी। मृतक किसान की पहचान 60 वर्षीय मिट्ठू सिंह के रूप में हुई है। मिट्ठू सिंह अपनी फ़सल बर्बादी का सदमा झेल नहीं पाए। जिस वजह से उन्होंने आत्महत्या कर ली। तो ये हैं दो तस्वीरें जो किसानों के हालात बयान करने के लिए काफ़ी हैं। अब आप ही बताइए की आख़िर कैसे और कब बदलेगी किसानों की दशा ! क्या अब तक की गई इतनी हड़ताल और मौत काफ़ी नहीं हैं।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password