मक्का बर्बादी को लेकर किसान सभा में सैंकड़ों किसान हुए शामिल

मक्का बर्बादी, को लेकर, किसान सभा, में सैंकड़ों, किसान हुए, शामिल,

मक्का बर्बादी, को लेकर, किसान सभा, में सैंकड़ों, किसान हुए, शामिल,

मक्का बर्बादी को लेकर किसान सभा में सैंकड़ों किसान शामिल हुए। देशभर के किसान इन दिनों मकई की बर्बाद हुई खेती को लेकर परेशान हैं। इसी संकट से जूझते हुए कुर्साकाटा प्रखंड के सैंकड़ों किसान मकई की खेती की बर्बादी पर चर्चा करने के लिए एक साथ जमा हुए। आपको बता दें कि इस सभा में पचास से ज़्यादा किसानों ने अपनी बात रखी। यहां आए हुए सभी किसानों की 50% से ज़्यादा फसल ख़राब हुई है।

दरअसल इन किसानों के खेतो में मक्का लगा हुआ है, पौधा अच्छा है पर कई मकई की खेत में दाना ही नहीं आया है। जहां दाना आया भी वहाँ कुछ दिन पहले आंधी तूफ़ान से सारी फ़सल चौपट हो गई। वहीं पिछले अगस्त में भी बाढ़ के चलते खेत बर्बाद हो गया। इन सब से भी बड़े दुःख की बात ये कि किसानों को फसल कि क्षतिपूर्ति अभी तक नहीं मिली है। जिससे ज़्यादातर किसान फसल बर्बाद होने के चलते परेशान हैं।

किसान सभा में किसानो ने अपनी मांगे रखी और प्रशासन को धमकी भी दी कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो वो सभी बड़ा आन्दोलन खड़ा करेंगे। आइए दिखाते हैं आपको कि किसानों ने प्रशासन के सामने क्या क्या मांगे रखी।

•प्रखंड कृषि पदाधिकारी से इस बात की मांग की जाय की कुर्साकाटा प्रखंड में मकई की क्षति का ठीक से आकलन किया जाय और एक महीने के अन्दर रिपोर्ट जारी करें।
•फसल क्षतिपूर्ति का मुआवजा जल्द से जल्द मिले।
•बटईदार, और सुधभारना खेत लिए किसानों भी मुआवजा मिले| जमीन की रसीद अनिवार्य ना हो।
•बाढ़ में बहुत कम किसानो को फसल क्षति का मुआवजा मिला है इसका एक कारण यह है कि अररिया जिले में मात्र 26 करोड़ रूपये ही मिले हैं।
•जिन किसानों ने किसान क्रेडिट कार्ड से लोन लिया है उन्हें बीमा का क्लेम मिले और उनका ऋण माफ़ हो।

अब देखना होगा कि प्रशासन और सरकार इन किसानों की गुहार सुनती है या नहीं ! या फिर इन किसानों को भी देश के बाकि किसानों की तरह ही अभी लम्बे वक़्त तक अपनी फसलों के इंसाफ के लिए इन्तजार करना पड़ेगा।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password