पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के राजनीतिक भविष्य पर लगा बैन

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को आजीवन चुनाव लड़ने से बेदखल कर दिया गया है। और इसी के साथ नवाज शरीफ का राजनीति में चैप्टर हमेशा के लिए बंद हो गया है। बता दें कि, आज पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। फैसले के मुताबिक संविधान की धारा 62(1)(एफ) के तहत अयोग्य करार दिए जाने के बाद कोई भी व्यक्ति आजीवन चुनाव नहीं लड़ सकता है। ये ऐतिहासिक फैसला जस्टिस उमर अता बंदियाल ने सुनाया है। नवाज शरीफ के अलावा पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ नेता जहांगीर तरीन और उनके कई नेताओं की राजनीति खत्म होने की कगार पर आ गई है।

पनामकांड में फंसे नवाज शरीफ
नवाज शरीफ को आजीवन चुनाव लड़ने से बेदखल कर दिया गया है।

बता दें, कि पनामाकांड में नवाज का नाम सामने आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उन्‍हें पिछले साल अयोग्‍य करार दिया था। इसके बाद फरवरी में कोर्ट ने उन्‍हें पार्टी के प्रमुख पद से भी हटा दिया था। अयोग्‍य ठहराए जाने के बाद नवाज ने लाहौर की सीट से अपनी पत्‍नी कुलसुम नवाज को मैदान में उतारा था। लेकिन जीतने के बाद भी वह अपनी बीमारी के चलते एक दिन भी संसद नहीं जा सकीं। उनका अब भी लंदन में ईलाज चल रहा है। नवाज पर आए ताजा फैसले के बाद उनका पॉलिटिकल करियर पूरी तरह से खत्‍म माना जा रहा है। हालांकि यह भी सच है, कि वह पार्टी में एक बड़ी भूमिका में बने रहेंगे। लेकिन उनका काम अब पूरी तरह से परदे के पीछे ही होगा।

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ
आजीवन चुनाव नहीं लड़ सकेंगे नवाज शरीफ

गौरतलब है, कि कहीं न कहीं सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का अंदाजा नवाज के परिवार को पहले से ही था। और इसी कारण नवाज की बेटी मरियम ने कोर्ट के इस फैसले को नवाज के खिलाफ एक सोचा समझा षड़यंत्र बताया है। साथ ही यह भी कहा, कि यह न्‍यायपालिका को लेकर मजाक है। उन्‍होंने फैसले के बाद यहां तक कहा कि यह अलीबाबा चालीस चोर की कहानी जैसा ही है।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री
संविधान की धारा 62(1)(एफ) के तहत नवाज को अयोग्य करार किया गया

बता दें कि पिछले साल अयोग्‍य ठहराए जाने के बाद नवाज ने कई रैलियां की जिसमें उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कड़ा ऐतराज जताया था। उनका कहना था कि सु्प्रीम कोर्ट के कुछ जज जब चाहे किसी को भी पीएम की कुर्सी से अयोग्‍य ठहरा देता है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की मार झेलने वाले अकेले नवाज ही नहीं हैं इससे पहले सैयद यूसुफ रजा गिलानी को भी कोर्ट ने अयोग्‍य करार दिया था।

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password