दिल्ली पुलिस ने 3 घंटे में केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को छोड़ा

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा आधी रात को अपने घर पर बुलाई गई बैठक में आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा मारपीट का आरोप लगाया, जिसके बाद कुछ विधायकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है, जबकि देर रात प्रकाश जारवाल को गिरफ्तार भी कर लिया गया है ।

दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को हिरासत में अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को हिरासत में लिया था, तीन घंटे की पूछताछ के बाद उन्हे छोड़ दिया गया है, वीके जैन ने ही मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को फोन कर बैठक में आने को कहा था, पुलिस ने सुबह 7 बजे महारानी बाग में उनके घर से हिरासत में लिया था ।

बता दे कि AAP नेता आशीष खेतान ने मंगलवार को सचिवालय में मारपीट का आरोप लगाया, उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों के हुजूम ने मारो-मारो की नारेबाजी की, उन्होंने बताया, ‘150 लोगों का हुजूम था जो अपने आप में ही चौंकाने वाली बात है, मैं लिफ्ट का वेट कर रहा था तभी 30 से 35 लोग मारो-मारो के नारे लगाते हुए आए ।

दूसरी तरफ IAS अधिकारियों ने दिल्ली सरकार में किसी भी मंत्री के साथ बैठक में शामिल होने से मना कर दिया है, इस मामले में दिल्ली पुलिस अभी AAP विधायक अमानतुल्ला खान की तलाश कर रही है, पुलिस ने जिन विधायकों के खिलाफ शिकायत दर्ज की है, उसमें अमानतुल्ला का भी नाम शामिल है, मंगलवार को हुए इस मामले में दिल्ली पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की थी, एक IAS की शिकायत पर आप विधायकों के खिलाफ और दूसरी मंत्री इमरान हुसैन की शिकायत पर सचिवालय में मारपीट करने वालों के खिलाफ ।

आपको को बता दे कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश की गिरफ्तारी उस वक़्त हुई जब वो एक शादी में शरीक होने जा रहे थे उसी दौरान खानपुर रेड लाइट पर उन्हें हिरासत में लिया गया, सूत्रों के मुताबिक जारवाल को पहले डिफेन्स कॉलोनी थाने लाया गया बाद में उन्हें सिविल लाइन थाने लाया गया है, जारवाल का नाम एफआईआर में नहीं था, लेकिन चीफ सेकेट्ररी को दिखाई की गई तस्वीर से उनकी पहचान की गई ।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि इस मामले में आरोप दूसरे विधायकों की भी तलाश की जा रही है, बता दें कि इन विधायकों पर आपराधिक साजिश और सरकारी अधिकारी के काम बाधा डालने जैसी गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है ।

उधर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर इस घटना की निंदा की, राजनाथ सिंह ने ट्वीट में लिखा कि दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव के साथ जो हुआ, वो बेहद दुखद है. उन्होंने ये भी लिखा कि नौकरशाहों को सम्मान और भयमुक्त तरीके से काम करने देना चाहिए ।

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password