चंद्रोदय मंदिर, दुनिया के सबसे ऊंचे मंदिर के निर्माण के पहले ही उसको रोकने की मांग तेज, एनजीटी ने मांगा जवाब

चंद्रोदय मंदिर

भारत में बनने जा रहा दुनिया का सबसे ऊंचा मदिंर चंद्रोदय मदिंर विवादों के घेरे में है. एनजीटी में एक याचिका दाखिल कर इस मंदिर को रोकने की मांग की गई है. मथुरा में इस्कॉन के नेतृत्व में बनने जा रहा, चंद्रोदय मंदिर इस वजह से विवादों में फंस सकता है. चंद्रोदय मदिंर के निर्माण को रोकने के लिए, धार्मिक सोसाइटी और केंद्रीय ग्रउंड वाटर अथॉरिटी (सीजीडब्लूए)

ने एनजीटी में एक याचिका दाखिल की है.

याचिका में कहा गया है कि वृंदावन में चंद्रोदय मंदिर के निर्माण से, यमुना के आसपास का पर्यावरण प्रभावित होगा, वहीं यहां के जल स्तर पर भी इसका प्रभाव पड़ेगा. एनजीटी के जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने इसके जवाब के लिए इंटरनेशनल सोसाइटी फार कंससनेस (इस्कॉन) और सीजीडब्लूए को 31 जुलाई तक का वक्त दिया है.

वहीं चंद्रोदय मंदिर निर्माण को रोकने के लिए, पर्यावरण कार्यकर्ता मणिकेश चतुर्वेदी ने भी मांग की है, मंदिर के स्ट्रक्चर के आधार पर याचिका में कहा गया है कि मंदिर के चारों और बाउंड्री के चारों ओर कृत्रिम तालाब होगा. जिसके लिए ज्यादा मात्रा में पानी की जरुरत पडेगी. इसके लिए जमीनी जलस्तर का दोहन किया जायेगा. इससे जहां यमुना नदी के अस्तित्व पर खतरा बढ़ेगा. वहीं जलस्तर पर कॉफी असर पड़ेगा.

इस्कॉन के मुताबिक चंद्रोदय मंदिर दो सौ मीटर से भी ज्यादा ऊंचा होगा. इसमें 70 मंजिलें होगीं. जिसका दायरा साढ़े पांच एकड़ में होगा.

अभी दुनिया में सबसे ऊंचा मंदिर मिस्र का पिरामिड माना जाता है. जिसकी ऊंचाई 128.8 मीटर है. वहीं वेटिकन शहर में स्थित सेंट पीटर बैसेलिका 128.6 मीटर ऊंचा है.

इस मंदिर के निर्माण में 45 लाख घन फीट कंक्रीट के साथ लगभग 25 हजार टन लोहे का इस्तेमाल हो सकता है. मंदिर भूकंप प्रतिरोधी होगी. वहीं मंदिर के निर्माण में 300 करोड़ लागत लगने का अनुमान है.

इस मंदिर का निर्माण इस्कॉन बेंगलुरू द्वारा मथुरा में किया जाएगा. अगर फीट की बात करें तो, चंद्रोदय मंदिर 7 सौ फीट ऊंचा होगा. जो 5,40,000 वर्ग फीट में फैला होगा. इस मंदिर को शानदार बनाने के लिए जंगलों का पुनर्निर्माण किया जायेगा. वहीं मंदिर का पूरा परिसर 26 एकड़ क्षेत्र में होगा. जिसमें ब्रज के 12 जंगलों को दिखाया जाएगा. इसकी शोभा बढ़ाने के लिए वनस्पतियां, झीलें और कृत्रिम झरने बनाये जाएगें. इस मंदिर का कुल क्षेत्रफल 62 एकड़ में फैला होगा. जिसमें पार्किंग और हैलीपैड का भी निर्माण किया जायेगा.

 

Grameen News के खबरों को Video रूप मे देखने के लिए ग्रामीण न्यूज़ के YouTube Channel को Subscribe करना ना भूले  ::

https://www.youtube.com/channel/UCPoP0VzRh0g50ZqDMGqv7OQ

Kisan और खेती से जुड़ी हर खबर देखने के लिए Green TV India को Subscribe करना ना भूले ::

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Green TV India की Website Visit करें :: http://www.greentvindia.com/

 

 

 

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password