Grameen News

True Voice Of Rural India

History of 19th May- 1910 में नाथूराम गोडसे का जन्‍म हुआ

1 min read
History of 19th May

Sharing is caring!

History of 19th May-

1.       दो साल के सश्रम कारावास के बाद आज ही के दिन साल 1892 में बहुचर्चित नाटककार और कवि ऑस्कर वाइल्ड जेल से रिहा किए गए थे. दरअसल 1891 में वाइल्ड पर समलैंगिक होने का आरोप लगा था. उस दौरान वाइल्ड अपनी पत्नी और दो बच्चो के साथ इंग्लैंड में रहते थे जहां समलैंगिक होना ग़ैरकानूनी था. ये मुक़दमा दायर होने के बाद वाइल्ड ने मानहानि का दावा भी ठोंका लेकिन सबूतों के आधार पर वो हार गए और उन्हें दो साल की सज़ा हो गई. रिहा होने के बाद 1898 में उन्होंने अपनी आखिरी कविता द बैलेड ऑफ़ रीडिंग गाओल‘ लिखी जो उनके जेल के संस्मरणों पर आधारित थी.

2.       अमरीका के वॉशिंगटन में 19 मई 1980 की सुबह साढ़े आठ बजे सेंट हेलेना ज्वालामुखी फटाजिससे नौ लोगों की मौत हो गई और कई लापता हो गए. उत्तर पश्चिमी अमरीका के कई शहरों और नगरों में दिन के समय ही अंधेरा छा गया. ज्वालामुखी फटने से इलाके में भूकंप आ गया और पहाड़ का उत्तरी हिस्सा ढह गया. रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.2 मापी गई. उबलते लावा ने क़रीब250 वर्ग किलोमीटर में फैला इस लावा ने जंगलो को खत्म कर दियाजिसमें हज़ारों जानवरों के मारे जाने की आशंका थी.

3.       आज ही के दिन साल 1910 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या कर भारतीय इतिहास के पन्नों में एक काला अध्याय जोड़ने वाले नाथूराम गोडसे का जन्‍म हुआ था. नाथूराम गोडसे का जन्म भारत के महाराष्ट्र के पुणे के पास बारामती में हुआ था वो मराठी परिवार में पैदा हुए थे, और उनके पिता विनायक वामनराव गोडसे पोस्ट ऑफिस में काम किया करते थेउनकी माता लक्ष्मी गोडसे केवल घर पर रहती थी.वो भारत की स्वतंत्रता से पहले की राजनीति से संबंध रखते थे, वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य थे साथ ही ये वही व्यक्ति थे। जिन्होंने भारत के राष्ट्रपिता की हत्या की थी, 30 जनवरी 1948 की शाम नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी के सीने में तीन गोलियां दाग दी. चंद मिनटों में गांधी जी का देहांत हो गया, और उसके बाद उन्हें इस गुनाह के लिए फासीं की सज़ा दी गई थी

4.       आज ही के दिन साल 1913 में भारत के छठे राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी में जन्म हुआ। नीलम संजीव रेड्डी को एक राजनेता और प्रशासक के रुप में याद किया जाते है। रेड्डी जी ने बचपन से ही स्वतंत्रता की लड़ाई में भाग लिया। उन्होंने स्वतंत्र के पहले और बाद में एक अच्छे राजनेता के तौर पर उच्च स्थान में रखा गया। नीलम संजीव रेड्डी भारत के पहले ऐसे राष्ट्रपति थे जिनको राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार के तौर पर पहली बार असफलता मिली थी। लेकिन दूसरी बार उम्मीदवार बनाए जाने पर राष्ट्रपति पद के लिए इनका चुनाव हुआ। साथ ही बता दे कि नीलम संजीव रेड्डी का निधन निमोनिया के कारण 1 जून 1996 को बैंगलोर नगर में हो गया।

5.       साल 2004 में इसी दिन जब ब्रिटेन के प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर हाउस ऑफ कॉमन्स में अपने सांसदों को संबोधित कर रहे थेतो उन पर अचानक बैंगनी रंग के आटे से भरे दो कंडोम फेंके गए. ब्लेयर अपना साप्ताहिक संबोधन कर रहे थे जब वीआईपी गैलरी से रॉन डेवीस उनपर दो कंडोम रूपी मिसाइल फेंकी. ब्लेयर ने पीछे मुड़ कर देखा और थोड़ा मुस्कुराए. इसके फौरन बाद एक और आदमीगाय हैरिसन चिल्लाते हुए अपनी जगह से उठे और एक पोस्टर दिखाया. बाद में एक मानवाधिकार संस्था, ‘फ़ादर्स फ़ॉर जस्टिस‘, ने इस घटना की ज़िम्मेदारी ली और कहा कि वो तलाक़शुदा पिताओं को अपने बच्चों से मिलने के समान अधिकारों की मांग सामने लाना चाहते थे.

6.       आज ही के दिन साल 2010 में बिहार के मुजफ्फरपुर-रक्सौल रेलखंड पर मोतीहारी ज़िला के जीवधारा और पीपरा रेलवे स्टेशन के बीच बंगारी हॉल्ट के समीप नक्सलियों ने रेल पटरी से उड़ा दी,जिससे एक टैंकर मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई तथा इसकी 13 बोगियों में आग लग गई।

 

Grameen News के खबरों को Video रूप मे देखने के लिए ग्रामीण न्यूज़ के YouTube Channel को Subscribe करना ना भूले  ::

https://www.youtube.com/channel/UCPoP0VzRh0g50ZqDMGqv7OQ

Kisan और खेती से जुड़ी हर खबर देखने के लिए Green TV India को Subscribe करना ना भूले ::

https://www.youtube.com/user/Greentvindia1

Green TV India की Website Visit करें :: http://www.greentvindia.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *